समस्या – मैं धान के खेत में नीलहरित काई का उपयोग करना चाहता हूं कृपया तरीका बतलायें।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

पवन कुमार,मासौद
समाधान- धान के खेत में डाली गई रसायनिक उर्वरकों की मात्रा का केवल 30-40 प्रतिशत ही पौधों को प्राप्त हो पाता है। इस कारण यदि नीलहरित काई का उपयोग किया जाये तो अधिक लाभ लिया जा सकता है।

आप निम्न उपचार करें-

  • धान के खेत में रोपाई के 7 दिनों बाद ही इसका उपयोग करें।
  • खेत में स्थिर पानी 8 से 10 से.मी. होना चाहिये।
  • एक हेक्टर क्षेत्र में 8-10 किलो नील हरित काई डाली जाये तथा पानी के बहाव को रोक दें।
  • फास्फेट का उपयोग रोपाई के समय ही करें।
  • अच्छे उत्पादन के लिये फसल के लिये निर्धारित उर्वरक का 2/3 भाग कम किया जा सकता है।
  • पानी से भरे खेतों में नील हरित काई तैयार करके बेची भी जा सकती है।
व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 − 3 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।