गोबर-धन बायो सीएनजी प्लांट का प्रधानमंत्री ने किया लोकार्पण

Share

इंदौर में एशिया के सबसे बड़े

इंदौर (21  फरवरी ) : प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को इंदौर के गोबर-धन बायो सीएनजी प्लांट का वर्चुअली लोकार्पण किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि इंदौर और मध्यप्रदेश स्वच्छता के क्षेत्र में देश में नई इबारत लिख रहे हैं। स्वच्छता के क्षेत्र में इंदौर देश और विदेश में मॉडल बन गया है। इंदौर में स्वच्छता के क्षेत्र में अद्भुत कार्य हुए हैं।  स्वच्छता के लिये इंदौर और मध्यप्रदेश के अनेक शहरों में विभिन्न नवाचार किये जा रहे हैं। स्वच्छता से जीवन जीने का तरीका बदला है। पर्यावरण में सुधार आ रहा है। रोजगार के नए अवसर भी पैदा हो रहे हैं। स्वच्छता से हमें बहुआयामी लाभ मिल रहे हैं। इसके लिये यहां की जनता, जनप्रतिनिधि, शासन-प्रशासन बधाई के पात्र हैं।

कचरे से कंचन बनाने की महत्वपूर्ण योजना – प्रधानमंत्री श्री मोदी ने  देवी अहिल्याबाई होल्कर के सेवा कार्यों का जिक्र कर  कहा कि इंदौर का नाम आते ही देवी अहिल्याबाई के सेवा-भाव का ध्यान आता है। इंदौर ने देवी अहिल्याबाई की प्रेरणा को कभी खोने नहीं दिया है। इसी प्रेरणा से इंदौर ने स्वच्छता के क्षेत्र में देश-विदेश में अपनी नई पहचान बनाई है। नागरिक कर्तव्यों का भी इंदौर ने बेहतर उदाहरण प्रस्तुत किया है। यहां के लोग जितने अच्छे हैं, उतने ही अच्छे उनके कार्य भी हैं। इंदौर में अब सेंव के साथ सेवा की पहचान भी जुड़ गई है। श्री मोदी ने कहा कि देवी अहिल्या बाई होल्कर की स्मृतियों को संजोए रखने के लिये काशी विश्वनाथ धाम में देवी अहिल्या बाई की आकर्षक प्रतिमा लगाई गई है। श्री मोदी ने कहा ‍कि इंदौर में कचरे के निपटान के लिये बेहतर कार्य हुए हैं। इंदौर के देवगुराड़िया स्थित ट्रेचिंग ग्राउण्ड इसका बेहतर उदाहरण है। देवगुराड़िया में कुछ वर्षों पूर्व कूड़े-कचरे का पहाड़ था, अब इस पूरे क्षेत्र को ग्रीन जोन में बदल दिया गया है। उन्होंने कहा कि देश में आने वाले दो-तीन वर्षों में सभी शहरों में कूड़े-कचरे के पहाड़ों को ग्रीन जोन में बदला जायेगा। श्री मोदी ने कहा कि कचरे के निपटान के लिये केन्द्र सरकार द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। गीले कचरे के निपटान की विशेष व्यवस्था हो रही है। इससे जहां एक ओर स्वच्छता में मदद मिलेगी, वहीं दूसरी ओर अतिरिक्त आमदनी प्राप्त होगी और रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे। इसके लिये गोबर-धन योजना का प्रभावी क्रियान्वयन किया जा रहा है। गोबर -धन योजना कचरे से कंचन बनाने की महत्वपूर्ण योजना है। इस योजना के क्रियान्वयन से प्रदूषण में भी कमी आएगी।  उन्होंने स्वच्छता अभियान में सफाई कर्मियों द्वारा दिए जा रहे महत्वपूर्ण योगदान की खुलकर सराहना कर कहा कि  हर देशवासी इनका ऋणी है। अनेक चुनौतियों के बावजूद भी सफाई कर्मी दिन-रात सफाई और सेवा के कार्य में लगे रहते है। उनका अभिनंदन।

 “वेस्ट टू वेल्थ” के सिद्धांतों के अनुरूप है यह प्लांट -वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का नेतृत्व भारत के प्रगति और विकास के लिए स्वर्णकाल सिद्ध हुआ है। वसुधैव कुटुम्बकम के मंत्र के साथ प्रधानमंत्री श्री मोदी ने पर्यावरण संरक्षण और स्वच्छता के क्षेत्र में विश्व को एक नई दिशा दी है। प्रधानमंत्री श्री मोदी के सर्कुलर इकोनॉमी एवं वेस्ट टू वेल्थ के सिद्धांत को मध्यप्रदेश सरकार ने पूरी गंभीरता के साथ धरातल पर उतारने का प्रयास किया है। इसका उत्तम उदाहरण इंदौर में स्थापित किया गया बायो-सीएनजी प्लांट है।केन्द्रीय आवासन  एवं शहरी कार्य मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा सर्कुलर इकोनामी” तथा “वेस्ट टू वेल्थ” के सिद्धांतों के अनुरूप है इंदौर का बायो सीएनजी प्लांट।  इंदौर दुनिया भर में स्वच्छता का सर्वोच्च उदाहरण है। लगातार 5 वर्षों से स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम आकर इंदौर ने देश में अपना कीर्तिमान स्थापित किया है।

पर्यावरण संरक्षण की बुनियाद में मील का नया पत्थर सिद्ध होगा  -गृह मंत्री एवं इंदौर जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कचरा मुक्त शहर बनाने के समग्र दृष्टिकोण की पूर्ति करता है यह बायो सीएनजी प्लांट।  प्रधानमंत्री श्री मोदी के मार्गदर्शन और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशन में कोरोना काल की विपरीत परिस्थिति में भी विकास की गति रुकी नहीं। मध्यप्रदेश निरंतर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सपनों और संकल्पों को पूरा करने की कोशिश कर रहा है। वहीं जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि इंदौर की स्वच्छता का डंका पूरे राष्ट्र में बजा है। स्वच्छता का जो संकल्प प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने लिया था उसे मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में इंदौर ने पूरा कर दिखाया है।  इंदौर ने राष्ट्र के मानचित्र पर स्वच्छता की नई उपलब्धि हासिल की है। इंदौर में निर्मित किया गया एशिया का सबसे बड़ा गोबर धन प्लांट आज देश एवं प्रदेश के लिए पर्यावरण संरक्षण के बुनियाद में मील का नया पत्थर सिद्ध होगा।

सीएनजी प्लांट से  वायु गुणवत्ता में होगा सुधार – प्रदेश के शहरी विकास एवं आवास विभाग राज्य मंत्री श्री ओपीएस भदौरिया ने कहा कि प्रदेश के लिए एक ऐतिहासिक दिवस है। प्रधान मंत्री श्री मोदी के वेस्ट टू वेल्थ के संकल्प को साकार करने का अभिनव प्रयास आज इंदौर करने जा रहा है। कचरा मुक्त शहर के निर्माण में ये एक महत्वपूर्ण कदम है। आज इस बायो सीएनजी प्लांट के लोकार्पण से देश में शहरी स्वच्छता को नया आयाम मिलेगा। सांसद श्री शंकर लालवानी ने कहा कि सीएनजी प्लांट से प्रदूषण के स्तर में कमी आने के साथ ही वायु गुणवत्ता में भी सुधार  होगा।  इंदौर के जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों, स्वच्छता मित्रों एवं शहर की जनता ने लगातार पांच बार स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम स्थान हासिल किया है, जो न केवल इंदौर शहर, बल्कि प्रदेश के लिए भी एक बड़ी उपलब्धि है।प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी नेशनल इन्वेस्टमेंट एण्ड इन्फ्रास्ट्रक्चर फण्ड श्री सुजॉय घोष एवं व्यापार आयुक्त दक्षिण एशिया श्री एलन जम्मेल ने गोबर धन  प्लांट के तकनीकी क्षेत्र से संबंधित जानकारी देकर इस बड़ी उपलब्धि के लिए बधाई दी।

इस कार्यक्रम में प्रदेश के  राज्यपाल श्री मंगु भाई पटेल, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी, सामाजिक न्याय मंत्री डॉ. वीरेन्द्र कुमार, केन्द्रीय राज्य मंत्री आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय श्री कौशल किशोर वर्चुअली रुप से शामिल हुए। जबकि इंदौर से इस कार्यक्रम में इंदौर जिले के प्रभारी एवं गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, राज्य मंत्री नगरीय प्रशासन श्री ओ.पी.एस. भदौरिया, सांसद श्री शंकर लालवानी, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जयपाल सिंह चावड़ा, विधायक श्री महेन्द्र हार्डिया, श्रीमती मालिनी गौड़, श्री रमेश मेंदोला तथा श्री आकाश विजयवर्गीय भी विशेष रुप से मौजूद थे।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.