गिरदावरी एप में शामिल होगा उद्यानिकी फसलों का पूर्ण रकबा

Share

15 सितंबर 2020, इंदौर। गिरदावरी एप में शामिल होगा उद्यानिकी फसलों का पूर्ण रकबा राजस्व विभाग के निर्धारित प्रपत्र के कॉलम में विशेष उद्यानिकी फसलों के नाम का उल्लेख नहीं होने से उद्यानिकी फसलों की सही और वास्तविक जानकारी नहीं मिल पा रही है, लेकिन अब इंदौर कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने इंदौर जिले के सभी तहसीलदारों को निर्देश दिए हैं कि वे राज्य स्तरीय गिरदावरी एप में उद्यानिकी फसलों का पूर्ण रकबा शामिल करवाएं।

महत्वपूर्ण खबर : समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का पंजीयन 15 सितम्बर से

गत दिनों कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने इंदौर जिले के सभी तहसीलदारों को निर्देश दिए, कि वे राज्य स्तरीय गिरदावरी ऐप में उद्यानिकी फसलों का पूर्ण रकबा शामिल करवाएं । इस एप में कम से कम 1/4 एकड़ को उद्यानिकी फसलों के लिये शामिल करते हुए उद्यानिकी फसल का नाम, उद्यानिकी फसलों का क्षेत्रफल एवं द्वि फसलों का क्षेत्रफल संशोधित करवाएं । इस कार्य में उद्यानिकी अधिकारियों एवं उद्यानिकी विभाग के विकासखंड स्तरीय कर्मचारियों का सहयोग लेने को कहा गया है।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2019-20 में उद्यानिकी फसलों का कुल क्षेत्रफल (द्वितीय अनुसार) 20.91 लाख हेक्टेयर है। कुल उद्यानिकी फसलों का उत्पादन 308.34 लाख मैट्रिक टन है। जबकि प्रदेश में राजस्व विभाग द्वारा गिरदावरी एप के माध्यम से वर्तमान में वर्ष 2019-20 में कुल उद्यानिकी रकबा 5.99 लाख हेक्टेयर दर्शाया गया है। प्रदेश में राजस्व विभाग द्वारा गिरदावरी एप के माध्यम से एकत्र आंकड़ों में उद्यानिकी फसलों की सही एवं पूर्ण जानकारी दिखाई नहीं दे रही है। ऐसा गिरदावरी एप हेतु राजस्व विभाग के निर्धारित फार्म के कॉलम में विशेष उद्यानिकी फसलों का नाम नहीं होने से राजस्व विभाग द्वारा कृषि फसलों का ही रकबा शामिल किया जाता है।सम्भवतः राजस्व विभाग द्वारा उद्यानिकी फसलों को छोड दिया जाता है.इसीलिए यह संशोधन करने की बात कही गई है।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.