कृषक उन्नत कृषि तकनीक और आधुनिक कृषि यंत्रों को अपनायें : डॉ. बिसेन

Share this

जनेकृविवि में लगा वृहत किसान मेला

जबलपुर। जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय में गतदिनों वृहत तकनीकी एवं मशीनरी प्रदर्शन किसान मेले का आयोजन किया गया। कृषि यंत्र एवं शक्ति अभियांत्रिकी विभाग में संचालित अखिल भारतीय यंत्र एवं मशीनरी परियोजना एवं भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् के सहयोग से स्थित कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय मैदान में आयोजित इस किसान मेले में प्रदेश के विभिन्न जिलों और ग्रामों के 600 से अधिक महिला पुरूष किसानों ने हिस्सा लेकर उन्नत कृषि तकनीक की जानकारी हासिल की। कुलपति डॉ. प्रदीप कुमार बिसेन ने फीता काटकर मेले का उद्घाटन किया और आव्हान किया कि किसानगण कृषि वैज्ञानिकों और कृषि इंजीनियर्स द्वारा विकसित उन्नत कृषि तकनीक और आधुनिक कृषि यंत्रों को अपनायें और अन्य किसानों को प्रेरित करें ताकि कृषि से दुगनी आय प्राप्त हो सके। डॉ. बिसेन ने कृषि के साथ पशुपालन, कुक्कट पालन, मछली पालन, मशरूम और लाख की खेती के साथ ही टिकाऊ खेती करने और नगद फसल उगाने की भी सलाह दी। इस दौरान अधिष्ठाता कृषि संकाय डॉ. धीरेन्द्र खरे, कुलसचिव श्री अशोक कुमार इंगले, संचालक अनुसंधान सेवायें डॉ. पी.के. मिश्रा, संचालक विस्तार सेवायें डॉ. (श्रीमती) ओम गुप्ता, संचालक शिक्षण डॉ. अभिषेक शुक्ला, संचालक प्रक्षेत्र डॉ. दीप पहलवान, अधिष्ठाता कृषि अभियांत्रिकी संकाय डॉं. आर.के. नेमा, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय डॉ. आर.एम. साहू, विभागाध्यक्ष डॉ. अतुल कुमार श्रीवास्तव, आईपीआरओ डॉ. मुमताज अहमद खान, अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ. अमित शर्मा, डॉ. मोहन सिंह सहित कृषि वैज्ञानिक, प्राध्यापक और शोधार्थी छात्रगण उपस्थित रहे।

मेले में कटाई उपरान्त बची हुई पराली हेतु बेलर मशीन आकर्षण का केन्द्र रही। द्वितीय चरण में आयोजित किसान-वैज्ञानिक संगोष्ठी में डॉ. अतुल कुमार श्रीवास्तव, डॉ. अविनाश गौतम एवं डॉ. अमित झा ने अपने उद्बोधन में कृषकों का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि आधुनिक कृषि परम्परागत कृषि से बहुत भिन्न हो गयी है। किसान मेले का संचालन एवं आभार प्रदर्शन डॉ. अतुल कुमार श्रीवास्तव ने किया। आयोजन में प्रो. आर.के. दुबे, विजय झारिया, विभाग के समस्त स्टाफ एवं विद्यार्थियों का सराहनीय सहयोग रहा।

Share this
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *