रायपुर कृषि विश्वविद्यालय द्वारा अक्षय तृतीया पर  वृहद स्तर पर ‘‘अक्ती तिहार’’ मनाया जाएगा

Share

21 अप्रैल 2022, रायपुररायपुर कृषि विश्वविद्यालय द्वारा अक्षय तृतीया पर  वृहद स्तर पर ‘‘अक्ती तिहार’’ मनाया जाएगा इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा छत्तीसगढ़ के प्रमुख त्यौहार अक्षय तृतीया के अवसर पर आगामी 3 मई को अक्ती तिहार व्यापक रूप से मनाया जाएगा। इस दिन विश्वविद्यालय के समस्त महाविद्यालयों, अनुसंधान केन्द्रों एवं कृषि विज्ञान केन्द्रों सहित लगभग 60 स्थानों पर अक्ती तिहार कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। छत्तीसगढ़ शासन की सुराजी गांव योजना में  स्थापित उस जिले के प्रमुख गौठानों को भी इस कार्यक्रम से जोड़ा जाएगा।

  • कृषकों एवं गौठान समितियों को उन्नत किस्मों की दलहन तिलहन एवं चारा फसलों के बीज वितरित किए जाएंगे
  • फल-सब्जियों की पौध सामग्री वितरित की जाएगी
  • बैल चलित कृषि यंत्रों एवं औजारों का वितरण होगा
  • कृषक प्रशिक्षण एवं कृषक संगोष्ठियों का आयोजन होगा
  • गौठानों में निर्मित खाद की गुणवत्ता बढ़ाने हेतु प्रशिक्षण एवं जैव उर्वरक का वितरण होगा
  • गीत, कविता, निबंध, भाषण एवं रंगोली प्रतियोगिताएं आयोजित होंगी
  • परंपरागत बीजों का संरक्षण करने वाले किसानों एवं वैज्ञानिकों को सम्मानित किया जाएगा

गौठान समितियाँ, स्व-सहायता समूहों की सहभागिता भी इस कार्यक्रम में सुनिश्चित की जाएगी। इस अवसर पर कृषकों, गौठान समितियों एवं स्व-सहायता समूहों के सदस्यों को विभिन्न खाद्यान – दलहन, तिलहन, सब्जी, चारा आदि फसलों के बीज एवं पौध सामग्री विश्वविद्यालय द्वारा विकसित एवं प्रचलित लघु कृषि यंत्रों तथा औजारों का विरण भी किया जाएगा। कार्यक्रम के दौरान कृषक प्रशिक्षण एवं कृषक संगोष्ठियों का आयोजन भी किया जाएगा जिसमें कृषकों की तकनीकी समस्याओं का निराकरण करने का प्रयास किया जाएगा।

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. गिरीश चंदेल ने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य में अक्ती तिहार (अक्षय तृतीया पर्व) कृषि का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। इस दिन से किसान आगामी फसलों हेतु कार्ययोजना बनाते हैं। वे अपने खेतों में जाकर आगामी फसल के लिए संग्रहित बीजों की पूजा अर्चना करते हैं और कुछ मात्रा में इन्हें उगाकर बीजों की अंकुरण क्षमता का परीक्षण भी करते हैं। अक्ती तिहार के अवसर पर किसान आगामी फसल अच्छी होने के लिए ईश्वर से प्रार्थना भी की जाती है। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ के इस महत्वपूर्ण कृषि पर्व को विश्वविद्यालय द्वारा वृहद रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है। इस कार्यक्रम में कृषकों के साथ-साथ स्थानीय जन-प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ बायोइन्क्यूबेशन प्रमोशन सोसायटी एवं इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में 15 हजार लीटर बायोफर्टिलाइजर का वितरण गौठानों में तैयार वर्मिकम्पोस्ट को समृद्ध बनाने हेतु किया जाएगा। कम्पोस्ट एनरिचमैन्ट हेतु विषय वस्तु विशेषज्ञों द्वारा गौठान समितियों के सदस्यों को आवश्यक प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाएगा।

महत्वपूर्ण खबर: म.प्र. के गेहूँ की अनेक देशों में बढ़ी मांग

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.