मसूर-सरसों में 400 रु. प्रति क्विंटल की वृद्धि

Share

गेहूं का समर्थन मूल्य 2015 रु. प्रति क्विंटल हुआ

13 सितम्बर 2021, नई दिल्ली । मसूर-सरसों में 400 रु. प्रति क्विंटल की वृद्धि – केंद्र सरकार ने वर्ष 2021-22 में रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) बढ़ाने का निर्णय लिया है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने गत दिनों इसका अनुमोदन किया। निर्धारित किये गये नये एमएसपी पर विपणन वर्ष 2022-23 में रबी फसलों की खरीदी की जायेगी। केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि हर बार की तरह एक बार फिर मोदी सरकार ने फसलों की एमएसपी बढ़ाकर तय की है, इससे देश के करोड़ों किसानों को लाभ मिलेगा।

श्री तोमर ने बताया कि मोदी सरकार ने 6 रबी फसलों- गेहूं, जौ, चना, मसूर, सरसों तथा कुसुम की एमएसपी बढ़ाने का फैसला किया है। इसका ऐलान करते हुए कहा कि एमएसपी में 35 रूपए से लेकर 400 रू. प्रति क्विंटल तक की वृद्धि की गई है। एफसीआई व अन्य राज्य एजेंसियां एमएसपी पर पहले की तरह खरीद करेगी। वहीं मंडियों की व्यवस्था भी बरकरार रहेगी। उन्होंने बताया कि गेहूं की एमएसपी में 40 रू. प्रति क्विंटल की वृद्धि उपरांत एमएसपी अब 2015 रू. प्रति क्विंटल हो गया है। चने के एमएसपी में 130 रू. प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई है, जिसके बाद इसका एमएसपी 5230 रू. प्रति क्विंटल हो गया है। मसूर का न्यूनतम समर्थन मूल्य 400 रू. प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है, इस वृद्धि के उपरांत एमएसपी 5500 रू. प्रति क्विंटल हो गया है। इसी तरह, सरसों के एमएसपी में 400 रू. प्रति क्विंटल की वृद्धि के बाद 5050 रू. प्रति क्विंटल एमएसपी हो गया है। जौ के एमएसपी में 35 रू. की वृद्धि के बाद 1635 रू. प्रति क्विंटल की एमएसपी रहेगा। इसी प्रकार, कुसुम का न्यूनतम समर्थन मूल्य 114 रू. प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है और इस वृद्धि के बाद नया एमएसपी 5441 रू. प्रति क्विंटल हो गया है।

श्री तोमर ने बताया कि रबी विपणन मौसम 2022-23 के लिए गेहूं की एमएसपी में वृद्धि पर कुल खर्च 92,910 करोड़ रूपये का आकलन किया गया है, जिसका वहन खाद्यान्न सब्सिडी के रूप में भारत सरकार द्वारा किया जाएगा।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.