भारत और उज़्बेकिस्तान के बीच कृषि क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर सहमति

Share

28 जुलाई 2022, नई दिल्ली । भारत और उज़्बेकिस्तान के बीच कृषि क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर सहमति उज़्बेकिस्तान के उप प्रधानमंत्री श्री जमशिद खोड़जाव तथा केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर के बीच आज कृषि भवन, नई दिल्ली में आयोजित बैठक में दोनों देशों के मध्य कृषि क्षेत्र में जारी सहयोग को आगे बढ़ाने पर सहमति हुई।

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने उज्बेकिस्तान के उप प्रधानमंत्री नियुक्त किए जाने पर श्री खोड़जाव को बधाई देते हुए प्रसन्नता जताई कि हमारे दोनों देशों के बीच कृषि क्षेत्र पर विशेष ध्यान दिया गया है। उन्होंने बताया कि हमने उज्बेकिस्तान से अंगूर, प्लम व स्वीट चेरी के लिए बाजार पहुंच प्रदान करने का निर्णय लिया है, जिसके लिए अधिसूचना शीघ्र प्रकाशित की जाएगी, वहीं भारत को आम, केला व सोयाबीन ऑयलकेक के निर्यात के लिए उज़्बेक पक्ष से अनुमोदन प्राप्त हुआ है, । श्री तोमर ने उज़्बेक पक्ष से अनार, आलू, पपीता और गेहूं की अनुमति में तेजी लाने का अनुरोध किया है।

इससे पहले, उज्बेकिस्तान के उप प्रधानमंत्री श्री खोड़जाव ने भारत को आजादी के अमृत महोत्सव की बधाई देते हुए कहा कि कृषि क्षेत्र में भारत का अनुभव काफी अच्छा है, जिसे हम सीखते हुए किसानों को सपोर्ट के बारे में जानना चाहते है। हम, भारत की तरह उज्बेकिस्तान में कृषि की दशा-दिशा बदलना चाहते हैं, जिसके लिए भारत से सीखना चाहते हैं।  उन्होंने इस संबंध में भारतीय कृषि शोध संस्थानों से शोध व विकास का लाभ उज्बेकिस्तान को दिलाने का अनुरोध किया। उप प्रधानमंत्री ने भारतीय कृषि में डिजिटलीकरण के बढ़ते ट्रेंड की सराहना करते हुए भारतीय कंपनियों के साथ मिलकर इसी तरह उज्बेकिस्तान में भी डिजिटलीकरण करने की बात कही। उन्होंने भारत की सार्वजनिक वितरण प्रणाली, न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रणाली आदि की भी प्रशंसा करते हुए इन्हें उज्बेकिस्तान के लिए सीखने की बात कही।

महत्वपूर्ण खबर:देश में पोषक अनाजों का उत्पादन 159 लाख टन हो गया

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.