पादप आनुवंशिक संसाधनों का संरक्षण मानवता की साझा जिम्मेदारी

Share

21 सितम्बर 2022, नई दिल्ली: पादप आनुवंशिक संसाधनों का संरक्षण मानवता की साझा जिम्मेदारी – केंद्रीय कृषि मंत्री, श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि पादप आनुवंशिक उपाय प्रजनन चुनौतियों के समाधान का स्रोत हैं। प्राकृतिक वास नष्‍ट होने और जलवायु परिवर्तन के कारण पादप आनुवंशिक उपाय भी असुरक्षित हैं। इनका संरक्षण ” मानवता की साझा जिम्‍मेदारी है”। हमें इन्‍हें बचाकर रखने और इनका स्‍थायी उपयोग करने के लिए सभी आधुनिक तकनीकों के साथ-साथ पारंपरिक ज्ञान को संरक्षित करने और स्थायी रूप से उपयोग करने के लिए उपयोग करना चाहिए।श्री तोमर ने नई दिल्ली में खाद्य और कृषि के लिए पादप आनुवंशिक उपायों पर अंतर्राष्ट्रीय संधि (आईटीपीजीआरएफए) के प्रबंध समूह के नौवें सत्र का उद्घाटन करते हुए यह बात कही।  

, श्री तोमर ने कहा कि पादप संधि का उद्देश्य फसलों की विविधता में किसानों और स्थानीय समुदायों के योगदान को पहचानना है। सदियों से, आदिवासी और पारंपरिक कृषक समुदायों ने अपने पास मौजूद समृद्ध आनुवांशिक सामग्री के पैमाने का लगातार विकास किया और उसे उपयोग के योग्‍य बनाया है।

कृषि सचिव श्री मनोज आहूजा ने सभी गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत करते हुए भारतीय कृषि की ताकत और सरकार की प्रगतिशील नीतियों के कारण हाल के दिनों में हुई महत्वपूर्ण प्रगति के बारे में संक्षेप में बताया। उन्होंने आग्रह किया कि जीबी9 के दौरान विचार-विमर्श से उपयोग के साथ आनुवंशिक संसाधन अधिकार, नवाचार के साथ निवेश और कृषि और खाद्य सुरक्षा के लिए भविष्य के लिए तैयार समाधान प्राप्त करने के लिए लाभ साझा करने के बीच संतुलन होना चाहिए।

जीबी9 ब्यूरो की चेयरपर्सन सुश्री यास्मीना अल-बहलौल ने संधि ब्यूरो की ओर से सभी प्रतिनिधियों का स्वागत किया और जीबी9 की मेजबानी के लिए भारत सरकार को धन्यवाद दिया।

एफएओ के महानिदेशक डॉ. डोंगौ कू वर्चुअल रूप से सत्र में शामिल हुए।

भारत में संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट कोऑर्डिनेटर श्री शोम्बी शार्प ने संयुक्त राष्ट्र की ओर से प्रतिनिधियों का स्वागत किया और खुशी व्यक्त की कि संयुक्त राष्ट्र इस बेहद महत्वपूर्ण संधि से जुड़ा था।

कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग में सचिव और, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक डॉ. हिमांशु पाठक ने पीजीआरएफए के प्रभावी प्रबंधन के लिए अनुसंधान और विकास संस्थानों के साथ-साथ अच्छी तरह से प्रशिक्षित मानव संसाधन की भूमिका पर जोर दिया।

महत्वपूर्ण खबर: मंदसौर मंडी में सोयाबीन आवक बढ़ी; भाव पिछले साल की तुलना में कम लेकिन एमएसपी से अधिक

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.