34 हजार किसानों को प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना का लाभ मिलेगा

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

19 अगस्त 2020, भोपाल। 34 हजार किसानों को प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना का लाभ मिलेगा – प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत इस वर्ष राज्य में 50 हजार हेक्टेयर क्षेत्र को सिंचित करने का लक्ष्य है। इससे लगभग 34 हजार किसान लाभान्वित होंगे। यह जानकारी देते हुए उद्यानिकी राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार श्री भारत सिंह कुशवाहा ने बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिए कि पिछड़े वर्ग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वर्ग के हितग्राहियों के लिए निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने पर विशेष ध्यान दें।
उन्होंने कहा कि प्रदेश में फल-फूल एवं सब्जी के उत्पादन को प्रोत्साहन देने के लिए संचालित विभिन्न योजनाओं में स्थानीय किसानों की मांग के अनुरूप लक्ष्य निर्धारित किए जाएं।

राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में फल-फूल और सब्जियों का उत्पादन किया जाता है। स्थान विशेष में जलवायु मिट्टी आदि की अनुकूलता को ध्यान में रख किसान फसलों का उत्पादन करते हैं। उन्होंने कहा कि इसी बात को ध्यान में रखते हुए उद्यानिकी विभाग की योजनाओं में लक्ष्य निर्धारित किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि पर्याप्त जमीनी जानकारी को ध्यान में रख योजनाओं में फसलों के उत्पादन में किसानों को अनुदान सहायता देने के निर्धारित लक्ष्यों का फिर से निर्धारण करें। श्री कुशवाह ने कहा कि शाजापुर जिले में संतरा, बुरहानपुर जिले में केला का उत्पादन बहुतायत में हो रहा है। इन जिलों में किसानों को संतरा और केला की फसल उत्पादन के लिए योजनाओं में शामिल किया जाए।

श्री कुशवाह ने कहा कि पिछड़े वर्ग, अनुसूचित जाति, जनजाति वर्ग के हितग्राहियों के लिए निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने पर विशेष ध्यान दिया जाए। राज्य मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में इस वर्ष 50 हजार हेक्टेयर क्षेत्र को सिंचित करने का लक्ष्य है। योजना में 34 हजार कृषक लाभाविन्त होंगे। बैठक में राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने मध्यप्रदेश सूक्ष्म सिंचाई योजना सहित अन्य योजनाओं की समीक्षा की। प्रमुख सचिव उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव सहित विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 − 4 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।