फसल की खेती (Crop Cultivation)

किसान भाई सोयाबीन की कौन सी किस्म लगायें

Share

07 जून 2024, भोपाल: किसान भाई सोयाबीन की कौन सी किस्म लगायें – भारतीय सोयाबीन अनुसन्धान संस्थान द्वारा देश के विभिन्न क्षेत्रों के लिए अनुशंसित सोयाबीन प्रजातियाँ – किस्मों की जानकारी यहाँ दी जा रही है l

1. मध्य क्षेत्र: मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश का बुन्देलखण्ड भाग, राजस्थान, गुजरात, उत्तर-पश्चिमी महाराष्ट्र: केंद्रीय स्तर पर नोटीफाईड किस्में: एन.आर.सी. 165, जे.एस. 22-12, जे.एस. 22-16, एन.आर.सी. 150, एन.आर.सी. 152, जे.एस. 21-72, आर.वी.एस.एम. 2011-35, एन.आर.सी. 138, इ.एम.एस. 100-39, आर.वी.एस. 76, एन.आर.सी. 142, एन.आर.सी. 130, एम.ए.सी.एस. 1520, आर.एस.सी. 10-46, आर.एस.सी. 10-52, ए.एम.एस.-एम-बी.-5-18, ए.एम.एस. 1001, जे.एस. 20-116, जे.एस. 20-94, जे.एस. 20-98, एन.आर.सी. 127

राज्य सरकार द्वारा अनुशंसित: मध्य प्रदेश: एन.आर.सी. 157, एन.आर.सी. 131, एन.आर.सी. 136

महाराष्ट्र: एम.ए.यु.एस. 725, फूले दूर्वा (के.डी.एस. 992)

2. पूर्वी क्षेत्र: छत्तीसगढ़, झारखण्ड, बिहार, उड़ीसा एवं पश्चिम बंगाल तथा  3. उत्तर पूर्वी पहाड़ी क्षेत्र: असम, मेघालय, मणीपुर, नागालैण्ड व सिक्किम)

केंद्रीय स्तर पर नोटीफाईड किस्में: आर.एस.सी.11-35, आर.एस.सी. 10-71, आर.एस.सी. 10-52, एम.ए.सी.एस. 1407, एम.ए.सी.एस. 1460, एन.आर.सी. 132, एन.आर.सी. 147, एन.आर.सी. 128, एन.आर.सी. 136, एन.आर.सी.एस.एल. 1, आर.एस.सी.11-07, आर.एस.सी.11-46, ए.एम.एस. 2014-1 (पूर्वा), डी.एस.बी. 32, जे.एस. 20-116, के.डी.एस. 753 (फूले संगम), कोटा सोया-1, छत्तीसगढ़ सोया-1

राज्य सरकार द्वारा अनुशंसित किस्में: छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ सोया ; झारखण्ड: बिरसा सोया-3, बिरसा सोया-4 ; मेघालय: उमियम सोयाबीन-1; हिमाचल प्रदेश: हिम पालम हरा सोया-1 ; जम्मू कश्मीर: शालीमार सोयाबीन-2

4. उत्तरी मैदानी क्षेत्रः पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश के पूर्वी मैदान, मैदानी-उत्तराखण्ड एवं पूर्वी बिहार 

केंद्रीय स्तर पर नोटीफाईड किस्में: पी.एस. 1640, एस. एल. 1074, एस. एल. 1028, एन.आर.सी. 128, एस. एल. 979, एस. एल. 955, पन्त सोया 26, पी.एस. 1477, एस.एल. 958, पूसा 12

राज्य सरकार द्वारा अनुशंसित किस्में: उत्तराखंड: उत्तराखंड काला सोयाबीन, पी.एस. 1521, पन्त सोयाबीन – 23, पन्त सोयाबीन-21, पी.एस. 1368

5. उत्तरी पहाड़ी क्षेत्रः हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश व उत्तराखण्ड के पर्वतीय क्षेत्र:

केंद्रीय स्तर पर नोटीफाईड किस्में: वी.एल.सोया-99,  पन्त सोयाबीन-25, वी.एल.सोया-89

राज्य सरकार द्वारा अनुशंसित किस्में: हिमाचल प्रदेश: हिम पालम सोया-1; उत्तराखंड: वी.एल.भट्ट 201, वी.एल.सोया-77

6. दक्षिणी क्षेत्रः कर्नाटक, तमिलनाडु, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश व महाराष्ट्र का दक्षिणी भाग

केंद्रीय स्तर पर नोटीफाईड किस्में: एम.ए.सी.एस.-एन.आर.सी. 1667, करुणे, एन.आर.सी. 142, एम.ए.सी.एस. 1460, ए.एम.एस. 2014-1, आर.एस.सी. 11-07, एन.आर.सी. 132, एन.आर.सी. 147, डी.एस.बी. 34, के.डी.एस. 753 (फूले किमया) के.डी.एस. 726 (फूले संगम). डी.एस.बी. 23, एम.ए.यु.एस. 612, एम.ए.सी.एस. 1281, के.डी.एस. 344, एम.ए.यु.एस. 162, एम.ए.सी.एस. 118

राज्य सरकार द्वारा अनुशंसित किस्में: तेलंगाना: ALSB-50, बसार  ; महाराष्ट्र : एम.ए.यु.एस. 725, फूले दूर्वा (के.डी.एस. 992), AMS-1001; कर्नाटक: के.बी.एस. 23

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements