फसल की खेती (Crop Cultivation)

पौधों में बोरॉन की कमी और अधिकता के लक्षण क्या हैं?

Share

09 मई 2023, भोपाल: पौधों में बोरॉन की कमी और अधिकता के लक्षण क्या हैं? – पौधे बढ़ने के लिए विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों को अवशोषित करते हैं। पोषक तत्वों में कोई भी असंतुलन अंतिम उत्पाद को प्रभावित कर सकता है। इसलिए, बढ़ते पौधे की पूरी तरह से जांच एक विशेष पोषक तत्व तनाव की पहचान करने में सहायता कर सकती है। विशिष्ट लक्षण दिखाई दे सकते हैं यदि किसी पौधे में किसी विशिष्ट पोषक तत्व की कमी है। कुछ पोषक तत्वों की कमी के तुरंत लक्षण नहीं होते हैं। इसके कारण नियमित पौधों की प्रक्रिया बाधित होती है, जिससे कुछ मध्यवर्ती कार्बनिक अणुओं की अधिकता और दूसरों में कमी हो जाती है। इसके परिणामस्वरूप असामान्यताएं होती हैं जिन्हें बाद में लक्षणों के रूप में पहचाना जाता है।

पौधों में बोरॉन की कमी और अधिकता के लक्षण

पौधों में बोरॉन की कमी- पौधों में बोरॉन की कमी से वृद्धि बिन्दुओं (मेरिस्टेमेटिक ऊतक) का असामान्य विकास होता हैं, शीर्ष वृद्धि बिन्दु अंतत: अवरूद्ध हो जाता है और मर जाता है। खेनेवाला (रोवर्स) और फलों का गर्भपात हो जाता हैं। इसके अलावा कुछ अनाज और फलों की फसलों के लिए उपज और गुणवत्ता में काफी कमी आ सकती है।

पौधों में बोरॉन की अधिकता– पौधों में बोरॉन की अधिकता से पत्ती के सिरे और किनारे भूरे होकर मर जाते हैं।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements