यूपीएल के प्रोवेक्स और रेनो से करे बीजोपचार

Share

2 जुलाई 2021, मुंबई: यूपीएल के प्रोवेक्स और रेनो से करे बीजोपचार। किसी भी फसल के बीज को बीजजनित एवं मृदाजनित फफूंदजन्य एवं जीवाणुजन्य बीमारियाँ जैसे कि सडऩ-गलन एवं मृदाजनित कीट जैसे कि सफेद दीमक, कटवर्म, इनसे क्षति पहुँचने का खतरा हमेशा बना रहता है। इन्ही बीमारी एवं कीटों से बीज का संरक्षण करना बीजोपचार से संभव है। बीजोपचार याने बीज को बीमारी एवं कीटरोधक दवाइयों का आवरण लगा के संरक्षित करना। यूपीएल की प्रोवेक्स (बीजोपचार फफूंदनाशक) एवं रेनो (बीजोपचार कीटनाशक) की जोड़ी इन्ही समस्याओं से सम्पूर्ण सुरक्षा देती है।

प्रोवेक्स एवं रेनो बीजोपचार की विधी जान लेते हैं।

  • बीजोपचार के लिए प्रोवेक्स की मात्रा 2.5 मिली प्रति किलोग्राम बीज एवं रेनो की मात्रा 2.5 मिली प्रति किलोग्राम बीज इतनी है।
  • बीजोपचार के लिए निर्धारित मात्रा में बीज लेकर उसे प्लास्टिक की पन्नी पर छाया में फैलायें। एक जार में 5 मिली प्रति किलोग्राम बीज की मात्रा से पानी लीजिये (10 किलोग्राम बीज के लिए 50 मिली पानी)।
  • पानी में पहले निर्धारित मात्रा में प्रोवेक्स और बाद में रेनो डालकर एक समान घोल बनाईए (10 किलोग्राम बीज के लिए 25 मिली प्रोवेक्स और 25 मिली रेनो)।
  • यही घोल बीज के ऊपर एक समान स्वरूप में डालकर पूरी तरह से एक समान गुलाबी रंग का आवरण बनने तक बीज को प्रक्रिया करते रहो। यूपीएल कम्पनी ने बीजोपचार को आसान एवं जल्द करने के लिए स्वयं चलित इलेक्ट्रिक मिक्सर मशीन पूरी तरह मुफ्त उपलब्ध कराई है।
  • बीजोपचार होने के बाद बीज को 30 से 60 मिनट तक छाया में सुखाइए। अब आपका बीज बुआई के लिए तैयार है। बीजोपचार होने के बाद किसान अपने सुविधा के हिसाब से बुआई कर सकता है।
  • सही बीजोपचार से बीमारियाँ एवं कीटों से सुरक्षा, एक समान एवं जल्द अंकुरण, स्वस्थ फसल और अंत में उपज में बढ़ौतरी मिलती है।
Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.