मैं गरकिन उत्पादन के बारे में जानकारी चाहता हूं

Share
  • उमेश जैन

समाधान : गरकिन के बारे में कृषकों के संदेश आते रहते हैं, कृषक जगत ने अपने अंक गरकिन के विषय में विस्तार से प्रकाशन किया है। आप हमारे पाठक हैं आपने उक्त प्रकाशन को पढ़ा होगा फिर भी उत्पादन के कुछ बिन्दु निम्नानुसार हैं।

  • गरकिन खीरा ककड़ी की तरह ही लगाई जाति है वर्तमान में भी लगा सकते हैं।
  • इस फसल की स्थानीय किस्म ही है वर्तमान में इसके विकास का कार्य चालू है।
  • इसकी मांग विदेशों में होने के कारण अच्छी आमदनी प्राप्त की जा सकती है।
  • बीज दर 3-4 किलो/हेक्टर कतार से कतार 1 मीटर तथा बीज से बीज 30 से.मी.
  • लताओं को सहारा देने के लिये 10 फीट के अंतर से खंबे गाडक़र तार लगाया जाता है ताकि लताओं का अच्छा विकास हो सके।
  • 10 से 15 टन गोबर खाद के साथ 100 किलो डीएपी तथा 100 किलो नीम की खली डाली जाये।
  • ड्रिप द्वारा सिंचाई से अधिक लाभ मिलता है यदि ड्रिप ना हो तो 7 दिनों के अंतर से नियंत्रित सिंचाई की जाये।
  • खेत में खरपतवार को निंदाई करके निकालते रहे।

महत्वपूर्ण खबर: मध्यप्रदेश में इजरायल के सहयोग से बनेंगे कृषि उत्कृष्टता केंद्र

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.