प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना – पर ड्रॉप मोर क्रॉप में भी लीकेज

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

उद्यानिकी विभाग में सब्सिडी घोटाला

भोपाल। किसानों की आय दोगुनी करने की फिक्र में म.प्र. उद्यानिकी विभाग के जिलों में पदस्थ कतिपय अधिकारी अपना बैंक बैलेंस जरूर डबल करते नजर आ रहे हैं। किसान के खेत पर पॉली हाउस नहीं लगा, पर उसके नाम से दो बार सब्सिडी का पैसा हितग्राही के खाते में जमा न करते हुए निर्माता के खाते में जमा करा दिया गया। वित्तीय वर्ष में मद में बजट से अधिक भुगतान हो गए हैं पर किसान के खेत पर पॉली हाउस की पन्नी भी नहीं लगी। इन्हीं सब प्रकरणों को गंभीरता से लेते हुए शासन ने उच्च स्तरीय जांच के निर्देश दिए हैं और दोषियों के खिलाफ एफआईआर की कार्यवाही के आदेश। चार विकासखंड वाले आगर मालवा जिले में 50 करोड़ से अधिक के इस घोटाले की अभी अनेक परतें खुलना शेष हैं और पूरे प्रदेश में ये कितने करोड़ का होगा, इसका अनुमान आप स्वयं लगा सकते हैं।

उद्यानिकी विभाग में फर्जी सब्सिडी का खेल तेजी से चल रहा है। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई जैसी महत्वपूर्ण योजना के घटक पर ड्रॉप मोर क्रॉप में, साथ ही पॉली एवं नेट हाऊस योजनाओं की सब्सिडी में भारी वित्तीय अनियमितता के चलते अधिकारियों एवं कंपनियों पर एफआईआर कराने की नौबत आ गई है। उद्यानिकी विभाग में फर्जी सब्सिडी का खेल तेजी से चल रहा है। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई जैसी महत्वपूर्ण योजना के घटक पर ड्रॉप मोर क्रॉप में, साथ ही पॉली एवं नेट हाऊस योजनाओं की सब्सिडी में भारी वित्तीय अनियमितता के चलते अधिकारियों एवं कंपनियों पर एफआईआर कराने की नौबत आ गई है। जानकारी के मुताबिक आगर-मालवा जिले में पाली हाऊस एवं नेट हाऊस की सब्सिडी जिले के उद्यानिकी अधिकारियों ने जारी कर दी जबकि पाली हाऊस एवं नेट हाऊस सिर्फ कागज पर बने हैं किसान के खेत पर फसल खड़ी है। वहां वास्तव में कुछ भी नहीं है। यह तथ्य उद्यानिकी संचालनालय द्वारा गड़बड़ी की शिकायत मिलने पर कराई गई जांच में सामने आया है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के घटक पर ड्रॉप मोर क्रॉप के तहत ड्रिप- स्प्रिंकलर सिंचाई की सब्सिडी में भी घालमेल उजागर हुआ है।

सब्सिडी में इन गंभीर अनियमितताओं को देखते हुए संचालक सह आयुक्त उद्यानिकी श्री सत्यानंद ने जांच के आदेश दिये थे।
जांच में पाए गए तथ्यों के आधार पर उक्त प्रकरणों में 9 अधिकारी एवं 6 कंपनियों की संलिप्तता पाई गई है इसे देखते हुए संचालक उद्यान श्री आर.सी. पिपल्दे, विकासखंड बड़ौद के उद्यानिकी ने आगर मालवा के उपसंचालक उद्यान विकास अधिकारी श्री सुभाष चंद्र श्रीवास्तव, नलखेड़ा के उद्यान विकास अधिकारी श्री एस.पी. राठौर सहित ग्रामीण विस्तार अधिकारियों में आगर मालवा के अनोखी लाल चौहान एवं श्री दीपक पाटीदार, श्री विजय चौधरी एवं श्री अनिल बिरला (सुसनेर), श्री प्रवीण पाल (बड़ौद), श्री राहुल पाटीदार (नलखेड़ा) के विरुद्ध एफआईआर करने के निर्देश दिये हैं। सूत्रों के मुताबिक संबन्धित थाने में एफआईआर कराने की दिशा में कार्यवाही की जा रही है। साथ ही उपसंचालक श्री रमेश चंद्र पिपल्दे को निलंबित करने की कार्यवाही भी प्रक्रियाधीन है।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × four =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।