अस्पी पुरस्कार से किसानों को सम्मानित किया गया

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

मुम्बई। वर्ष 2017 का गरिमामय समापन अस्पी उद्योग समूह ने परम्परानुसार एक भव्य कार्यक्रम में उत्कृष्ट किसानों को सम्मानित कर किया। अस्पी फाउण्डेशन पिछले 20 वर्षों से अपने संस्थापक, संरक्षक और प्रेरक व्यक्तित्व स्व. श्री एल.एम. पटेल की स्मृति में तीन श्रेणियों में उत्कृष्ट किसानों को सम्मानित करता है। बागवानी, वर्षा आश्रित खेती और महिला कृषक वर्ग में अभी तक देश के 56 किसानों को सम्मानित किया जा चुका है।

पुरस्कार प्राप्तकर्ता– श्री जितेश कुमार चंदूभाई पटेल तालुका- धनुरा, जिला- अरावली गुजरात, आलू की खेती के लिए। इस श्रेणी में विशेष प्रशंसा पुरस्कार विजेता श्री जगदीश कुमार मोहनभाई पटेल, नवा, तालुका- तालोड, जिला- साबरकांठा गुजरात। शीत ऋतु में फसल (2015) सरसों– श्री नरानभाई कलाभाई पटेल तालुका- थारद, जिला बनासकांठा गुजरात। बागवानी श्रेणी 2016 में– श्री प्रसाद विष्णु सावे जिला- पालघर को संरक्षित खेती कैप्सिकम में महाराष्ट्र। विशेष पुरस्कार श्रेणी 2016 में– अंतराष्ट्रीय दलहन के लिए वर्ष – अरहर श्री श्रीगुरुलिंग अप्पा मैदप्पा मेल्डड्डी, जिला- बिदर, कर्नाटक। विशेष प्रशंसा पुरस्कार– श्री गंगाधर प्रफुल्लला बिराजदर, जिला सोलापुर, महाराष्ट्र। सांत्वना पुरस्कार- सरसों- श्री रोहित कुमार साहू, जिला- दुर्ग, छत्तीसगढ़, बागवानी श्रेणी 2016 में– संरक्षित खेती (शिमला मिर्च) श्री अंकुशराजपाल पडावले जिला- सोलापुर, महाराष्ट्र।

किसानों का चयन दीर्घ और गहन छानबीन वाली चयन प्रक्रिया के बाद किया जाता है। चयन समिति के अध्यक्ष पद्म विभूषण प्रो. एम.एस. स्वामीनाथन हैं।
कार्यक्रम के प्रारंभ में प्रबंध संचालक श्री शरद पटेल ने अतिथियों का स्वागत किया। श्री किरन पटेल ने उपस्थित सभा को अस्पी फाउण्डेशन की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम में सांसद श्री गोपाल शेट्टी, विधायक श्री योगेश सागर, डॉ. एस.बी. कद्रेकर, डॉ. ए.जी. सावंत, श्री नारायण भाई चावड़ा आदि गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। अस्पी के निदेशकगण श्री जतिन पटेल एवं श्री राजीव पटेल ने भी अतिथियों का स्वागत किया।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + 16 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।