समस्या- बेर की फसल में अच्छा उत्पादन के लिये क्या करें, कुछ वृक्ष हमारे यहां लगे हैं।

Share

– गोरेलाल यादव,जासलपुर
समाधान- बेर एक अत्यंत पोषक फल है जिसकी विकसित जातियों का कार्य महाराष्ट्र में बहुत किया गया है कृषक विकसित बेर लगाकर अच्छा खासा पैसा कमा रहे हैं। आप भी निम्न करें और मीठे-मीठे बेर खायें और बेचकर लाभ कमायें।

  • इस वक्त पौधों को पानी की आवश्यकता होती है। थाला बनाकर यूरिया 500 ग्राम/किलो डालें। सिंचाई पहले करें फिर यूरिया दिया जाये।
  • यूरिया का 15 प्रतिशत घोल (डेढ़ ग्राम/ लीटर पानी) तथा 0.5 प्रतिशत (आधा ग्राम/ लीटर पानी) में घोल बनाकर छिड़काव करना भी लाभकारी होगा।
  • फल मक्खी का प्रकोप बहुत होता है। 500 मि.ली. रोगर 30 ई.सी. अथवा मेटासिस्टॉक्स 25 ई.सी. 600 मि.ली. घोल बनाकर छिड़काव करें।
  • पत्तियों पर भभूतिया के लक्षण दिखाई देने पर 500 ग्राम सल्फेक्स से 250 लीटर पानी में या केराथियान 200 मि.ली. 200 लीटर पानी में घोल बनाकर 15 दिनों के अंतर से दो छिड़काव करें। पहला छिड़काव फूल अवस्था में तथा दूसरा मटर के आकार के फल बनते समय करें।
Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.