रायपुर कृषि विश्वविद्यालय का 36वां स्थापना दिवस मनाया गया

Share

21 जनवरी 2022, रायपुर । रायपुर कृषि विश्वविद्यालय का 36वां स्थापना दिवस मनाया गया – इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर का 36वां स्थापना दिवस मनाया गया। इस अवसर पर ऑनलाईन एवं ऑफलाईन माध्यम से कृषि विश्वविद्यालय के 35 वर्षों की विकास यात्रा का पुनरावलोकन किया गया। स्थापना दिवस पर कृषि क्षेत्र में युवाओं को प्रेरित, आकर्षित तथा प्रतिधारित करने हेतु आयोजित वेबिनार के मुख्य अतिथि इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.एस. सेंगर ने कहा कि देश के युवाओं को कृषि के क्षेत्र में आने के लिए प्रेरित करना तथा उन्हें इस क्षेत्र में बनाये रखना आज के समय की मांग है। उन्होंने कहा कि युवाओं को कृषि संबंधी व्यावसायिक गतिविधियों से जोड़कर ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के नये अवसर सृजित किये जा सकते हैं। फसल विविधिकरण, प्रसंस्करण, मूल्य संवर्धन तथा सुनिश्चित बाजार उपलब्ध करा कर युवाओं को कृषि के क्षेत्र में आने के लिए प्रेरित किया जा सकता है। उन्होंने कृषि विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों से आव्हान किया कि वे कृषि के क्षेत्र में व्यावसाय-उद्यम स्थापित कर अन्य लोगों को भी रोजगार उपलब्ध कराएं। उन्होंने कृषि में नवाचार और सूचना प्रौद्योगिकी का बेहतर उपयोग करने पर जोर दिया।

इस वेबिनार में कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित समस्त महाविद्यालयों के अधिष्ठाता एवं प्राध्यापकगण, कृषि अनुसंधान केन्द्रों के वैज्ञानिक एवं कृषि विज्ञान केन्द्रों के वरिष्ठ वैज्ञानिक तथा विषयवस्तु विशेषज्ञ और बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं जुड़े। विश्वविद्यालय के कुलसचिव श्री जी.के. निर्माम, प्रशासनिक अधिकारी, अधिष्ठातागण तथा विभागाध्यक्ष नॉलेज सेन्टर में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए ऑफलाईन माध्यम से वेबिनार में शामिल हुए। वेबिनार में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के उप महानिदेशक डॉ. ए.के. सिंह भी शामिल हुए। डॉ. ए.के. सिंह ने वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा देश के ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं को  कृषि एवं संबंधित गतिविधियों से जोडऩे के लिए आर्या (अट्रैक्टिंग रूरल यूथ इन एग्रीकल्चर) योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत एक जिला एक उत्पाद कार्यक्रम के तहत प्रत्येक जिले के लिए किसी एक उत्पाद का चयन कर उसके उत्पादन को बढ़ावा दिया गया। यह योजना कृषि विज्ञान केन्द्रों के माध्यम से संचालित की जा रही है और अब तक इस योजना के तहत लाखों युवाओं को कृषि एवं संबंधित गतिविधियों से जोड़ा गया है।

वेबिनार को संबोधित करते एवं महात्मा गांधी उद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय सांकरा (दुर्ग) के कुलपति डॉ. आर.एस. कुरील ने कहा कि युवाओं को कृषि क्षेत्र के प्रति आकर्षित करने में कृषि यंत्रीकरण, कटाई उपरान्त प्रबंधन, फसल विविधिकरण, समन्वित कृषि प्रणाली, कौशल विकास प्रशिक्षण, उद्यमिता विकास, वित्तीय मदद तथा बाजार लिंकेज की महत्वपूर्ण भूमिका है। वेबिनार में स्वागत भाषण देते हुए कृषि महाविद्यालय, रायपुर के अधिष्ठाता डॉ. एम.पी. ठाकुर ने छत्तीसगढ़ में कृषि शिक्षा के विकास के पर प्रस्तुतिकरण दिया। उन्होंने कहा कि राज्य बनने के पश्चात छत्तीसगढ़ में कृषि शिक्षा का तीव्र विकास हुआ है और आज छत्तीसगढ़ कृषि शिक्षा के क्षेत्र में देश के अग्रणी राज्यों में है। उन्होंने बताया कि राज्य निर्माण के समय छत्तीसगढ़ में केवल एक कृषि महाविद्यालय संचालित था जबकि आज 32 कृषि महाविद्यालय, 11 उद्यानिकी महाविद्यालय, 4 कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय, एक खाद्य प्रौद्योगिकी महाविद्यालय तथा एक वानिकी महाविद्यालय संचालित है। निदेशक विस्तार सेवाएं डॉ. आर.के. बाजपेयी ने कहा कि इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा युवाओं को कृषि एवं संबंधित व्यावसायिक गतिविधियों से जोडऩे के लिए अनेक प्रयास किये जा रहे हैं। विभिन्न कृषि विज्ञान केन्द्रों द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में कृषक उत्पादक संगठन, कृषक समूह, महिला स्व-सहायता समूह आदि के माध्यम से कृषि आधारित व्यावसायिक गतिविधियां संचालित की जा रही है।

वेबिनार के दौरान बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र, बिलासपुर के अधिष्ठाता डॉ. आर.के.एस. तिवारी ने समस्त कृषि महाविद्यालयों की प्रगति और उभरते मुद्दों पर प्रस्तुति दी। उद्यानिकी महाविद्यालय, राजनांदगांव के अधिष्ठाता डॉ. जितेन्द्र सिंह द्वारा समस्त उद्यानिकी महाविद्यालयों की प्रगति और उभरते मुद्दों पर प्रस्तुति दी गई। समस्त कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय, खाद्य प्रौद्योगिकी महाविद्यालय की प्रगति एवं उभरते मुद्दों पर स्वामी विवेकानंद कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ. विनय पाण्डेय ने प्रस्तुति दी। छत्तीसगढ़ के मौदानी क्षेत्रों की अनुसंधान उपलब्धियां एवं उभरते मुद्दों पर सह संचालक अनुसंधान डॉ. आर.आर. सक्सेना द्वारा प्रस्तुति दी गई। छत्तीसगढ़ के उत्तरी पहाड़ी क्षेत्रों की अनुसंधान उपलब्धियां एवं उभरते मुद्दों पर राजमोहिनी देवी कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र के अधिष्ठाता डॉ. पी.के. जायसवाल ने प्रस्तुति दी। शहीद गुण्डाधुर कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र के अधिष्ठाता डॉ. आर.एस. नेताम द्वारा छत्तीसगढ़ के बस्तर पठारी क्षेत्रों की अनुसंधान उपलब्धियां एवं उभरते मुद्दों पर प्रस्तुति दी गई। छत्तीसगढ़ के मैदानी क्षेत्रों की विस्तार उपलब्धियों एवं उभरते मुद्दों पर कृषि विज्ञान केन्द्र, रायपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. एस.एस. चन्द्रवंशी द्वारा प्रस्तुति दी गई। छत्तीसगढ़ के उत्तरी पहाड़ी क्षेत्रों की विस्तार उपलब्धियों एवं उभरते मुद्दों पर कृषि विज्ञान केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. संदीप शर्मा ने प्रस्तुति दी। कृषि विज्ञान केन्द्र, दंतेवाड़ा के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. नारायण साहू द्वारा छत्तीसगढ़ के बस्तर के पठारी क्षेत्रों की विस्तार उपलब्धियां एवं उभरते मुद्दों पर प्रस्तुति दी गई। कृषि मौसम विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. जी.के. दास द्वारा छत्तीसगढ़ के मैदानी क्षेत्रों में प्रक्षेत्रों की उपलब्धियों एवं उभरते मुद्दों पर प्रस्तुति दी गई।

वेबिनार में छत्तीसगढ़ के उत्तरी पहाड़ी क्षेत्रों में प्रक्षेत्रों की उपलब्धियों एवं उभरते मुद्दे पर कृषि विज्ञान केन्द्र अंबिकापुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. रविन्द्र तिग्गा द्वारा प्रस्तुति दी गई। उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र, जगदलपुर के अधिष्ठाता डॉ. अश्वनी ठाकुर ने छत्तीसगढ़ के बस्तर पठारी क्षेत्रों में प्रक्षेत्रों की उपलब्धियों एवं उभरते मुद्दों पर प्रस्तुति दी। प्रक्षेत्र गतिविधियों की प्रगति और उभरते मुद्दों पर निदेशक प्रक्षेत्र डॉ. पी.के. चंद्राकर द्वारा प्रस्तुति दी गई। अनुसंधान उपलब्धियों की प्रगति एवं उभरते मुद्दों पर संचालक अनुसंधान सेवाएं डॉ. विवेक त्रिपाठी द्वारा प्रस्तुति दी गई। विस्तार सेवाओं की उपलब्धियों की प्रगति एवं उभरते मुद्दों पर निदेशक विस्तार सेवाएं डॉ. आर.के. बाजपेयी द्वारा प्रस्तुति दी गई। कृषि विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ. जी.के. श्रीवास्तव द्वारा छात्र कल्याण गतिविधियों एवं उपलब्धियों पर प्रस्तुति दी गई। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय की वित्तीय उपलब्धियों पर लेखानियंत्रक श्री आर.पी.एस. चैहान ने प्रस्तुति दी।

महत्वपूर्ण खबर:  दीनदयाल अंत्योदय योजना -एनआरएलएम ने कृषि पोषण वाटिका सप्ताह मनाया

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.