राज्य कृषि समाचार (State News)

पर्यावरण सुधार एवं जल संचयन के क्षेत्र में इंदौर देश का मॉडल शहर

Share

22 जून 2024, इंदौर: पर्यावरण सुधार एवं जल संचयन के क्षेत्र में इंदौर देश का मॉडल शहर – राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) की प्रिंसिपल बेंच के सदस्य डॉ. अफरोज अहमद की अध्यक्षता में  शुक्रवार को संबंधित विभागों के अधिकारियों की बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में कलेक्टर श्री आशीष सिंह, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सिद्धार्थ जैन सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

बैठक को संबोधित करते हुए डॉ. अफरोज अहमद ने कहा कि एनजीटी के निर्देशों के पालन करने में इंदौर देश का मॉडल शहर है। इंदौर में मेट्रो लाइन तथा इसकी संरचना के आसपास वाटर रिचार्जिंग के कार्य किया जाना सराहनीय है। बताया गया कि गांधीनगर से रोबोट चौराहा तक मेट्रो रेल लाइन पर कुल 298 वाटर हार्वेस्टिंग एवं ग्राउंड वाटर रिचार्ज पिट के कार्य कराए गए हैं। उन्होंने कहा कि नई बसने वाली कॉलोनी में निर्धारित मापदंडों के अनुरूप अनिवार्य रूप से ग्रीन क्षेत्र विकसित कराया जाये। उन्होंने कहा कि इंदौर में हो रहे अच्छे कार्यों का  दस्तावेजीकरण भी हो, जिससे कि अन्य जिलों के लिए एक नई राह मिले।

बैठक में डॉ. अफरोज अहमद ने जिला एनवायरमेंट प्लान की समीक्षा की। उन्होंने पर्यावरण से जुड़े विभिन्न विषयों पर भी चर्चा की। बैठक में बताया गया कि इंदौर में वर्षा जल संचयन का कार्यक्रम व्यापक स्तर पर चल रहा है। इसके लिए जल गंगा संवर्धन अभियान भी चलाया जा रहा है। जानकारी दी गई की इंदौर शहर में 27 तालाबों के गहरीकरण एवं नदी और तालाबों के जल आवक वाली कैचमेंट क्षेत्र की सफाई का कार्य भी जन भागीदारी के माध्यम से किया जा रहा है। इंदौर शहर में वर्षा के जल को सहेजने के लिए लगभग 300 रिचार्ज सॉफ्ट बनाए जा रहे हैं। इस वर्ष जिले में लगभग 8 हजार 500 घरों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग का कार्य भी किया गया है। बैठक में शिप्रा एवं कान्ह नदी किनारे के गांवों में घरेलू तरल अपशिष्ट प्रबंधन की कार्य योजना के संबंध में भी जानकारी दी गई। बैठक में बताया गया कि जिले में 51 लाख वृक्षारोपण का कार्य वृहत स्तर पर करने के लिए कार्य योजना बनाई गई है। इसके लिए व्यापक तैयारियां की जा रही है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements