भीलवाड़ा जिले में लंपी बीमारी की रोकथाम के लिए जागरूकता जरूरी- पशुपालन मंत्री

Share

10 अगस्त 2022, जयपुर: भीलवाड़ा जिले में लंपी बीमारी की रोकथाम के लिए जागरूकता जरूरी- पशुपालन मंत्री – कृषि एवं पशुपालन मंत्री श्री लालचंद कटारिया भीलवाड़ा जिले के शाहपुरा पहुंचे। यहां उन्होंने गौवंश में फैली लंपी बीमारी को लेकर शाहपुरा की ऎतिहासिक श्री पशुपतिनाथ गौशाला का निरीक्षण किया और बीमारी के उपचार एवं रोकथाम के लिए प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने बारीकी से गौशाला की व्यवस्थाओं व गौवंश के लिए की जा रही सुविधाओं का निरीक्षण कर संतोष जताया। 

उन्होंने पशुपालन विभाग और कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ गौशाला परिसर में समीक्षा बैठक कर उनको दिशा निर्देश दिये। इस दौरान मवेशियों में फैल रही लंपी स्किन डिजीज की स्थिति एवं रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयासों की समीक्षा की। उन्होंने दोनो विभागों के अधिकारियों को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश देते हुए कहा कि आगामी आदेश तक सभी कार्मिक फील्ड में रहे। उन्होंने जिले में पशुओं के लिए दवाईयों की उपलब्धता के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। 

गौशाला समिति के अध्यक्ष ने गौशाला का प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए बताया कि प्रतिदिन साफ सफाई, छिड़काव, गौवंश का परीक्षण चिकित्सक से कराने की व्यवस्था कर रखी है। समिति ने मंत्री श्री कटारिया से गौशाला के लिए भूमि आंवटन कराने की मांग रखी, जिस पर मंत्री श्री कटारिया ने उपखंड अधिकारी व तहसीलदार को प्रस्ताव बनाकर शीघ्र देने को कहा।  

इस दौरान जानकारी देते हुऎ कृषि मंत्री श्री लालचंद कटारिया ने कहा कि प्रदेश में गौवंश में लंपी बीमारी को लेकर राजस्थान सरकार अलर्ट मोड पर है। जिन जिलों में इसकी जानकारी मिली है वहां पर गौवंश के लिए सभी माकूल तैयारियां की गई है। अन्य जिलों में इसका फैलाव रोकने के लिए सभी अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। इसके लिए पशुपालकों में इस रोग के प्रति जागरूकता जरूरी है। उन्होंने कहा कि देश के कई राज्यों में रोग फैल रहा है। राजस्थान पशुधन के हिसाब से देश में दूसरे स्थान पर है। राज्य में पशुओं का लगातार वैक्सीनेशन भी किया जा रहा है।

महत्वपूर्ण खबर:‘ पॉलीसल्फेट उर्वरक का टमाटर में उपयोग ’ विषय पर वेबिनार 10 अगस्त को

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.