तरबूज फसल से बदल रही अलीराजपुर के किसानों की तकदीर

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

तरबूज फसल से बदल रही अलीराजपुर के किसानों की तकदीर

लॉक डाउन में किसानों ने उत्पादन के साथ मार्केटिंग कला भी सीखी

14 जुलाई 2020, अलीराजपुर। तरबूज फसल से बदल रही अलीराजपुर के किसानों की तकदीर – जोबट के ग्राम खुटाजा के श्री इडा लोंगसिंह ने करीब 2 एकड़ भूमि पर तरबूज लगा कर 2 लाख 56 हजार रूपये का तरबूज बेचा जिससे उन्हें शुद्ध आय करीब 2 लाख 10 हजार रूपये हुई। क_ीवाडा के ग्राम हवेलीखेड़ा के थावरिया भरिया ने पहली बार पौन एकड़ पर तरबूज की खेती की और 45 हजार से अधिक की आय ली। ऐसा ही कुछ ग्राम जामनी के श्री लालसिंह बालू के साथ हुआ। उन्होंने एक हेक्टेयर पर तरबूज लगाया। 2 लाख 55 हजार रूपये का तरबूज बेचकर 1 लाख 82 हजार 600 रूपये की आय प्राप्त की। सोंडवा के साकडी निवासी नरसिंह रतन ने करीब एक एकड़ क्षेत्र में तरबूज की खेती की। इन्होंने एक लाख का तरबूज बेचते हुए करीब 74 हजार रूपये की आय प्राप्त की।

म.प्र. के पश्चिमी छोर पर बसे अलीराजपुर जिले में कलेक्टर श्रीमती सुरभि गुप्ता के विशेष प्रयासों से तरबूज उत्पादन कार्यक्रम में पांच विकासखंड के 300 किसानों को तरबूज खेती के लिए प्रोत्साहित किया गया, जिसके सकारात्मक परिणाम नजर आए हैं। तरबूज की बम्पर फसल और सही मार्केटिंग से इन किसानों को अच्छी आय प्राप्त हुई, वहीं किसानों ने विपणन की कला भी सीखी। इन किसानों को उद्यानिकी विभाग द्वारा तकनीकी मार्गदर्शन, ड्रिप सिंचाई और मल्चिंग का उपयोग, घुलनशील उर्वरक फर्टीगेशन की जानकारी देते हुए तरबूज की खेती करने हेतु प्रोत्साहित किया गया। करीब 60 से 75 दिनों में तैयार होने वाली तरबूज फसल की इस विशेष गतिविधि से बड़ी संख्या में किसानों को आय का बेहतर साधन प्राप्त हुआ। जायद में (फरवरी से मई तक) करीब तीन माह की तरबूज फसल जिले के किसानों के लिए लाभ का व्यवसाय सिद्ध हुई है।

तरबूज उत्पादक किसानों ने थोक दाम 9 से 12 रूपये एवं खेरची दाम 20 रूपये प्रति किलो तरबूज बेचकर अच्छी आय प्राप्त की। आदिवासी बाहुल्य अलीराजपुर जिले में खेती का रकबा 1.90 लाख हेक्टेयर है। वहीं जिले में खेती का सिंचित रकबा 37 हजार 537 हेक्टेयर है जिसके कारण रबी में उत्पाद सीमित हो जाता है। जिले में तरबूज का अधिकतम 150 क्विंटल एवं औसत 64 क्ंिवटल उत्पादन प्रति एकड़ प्राप्त हुआ। इससे तरबूज उत्पादक किसानों को अधिकतम 1 लाख 70 हजार रूपये तक की आय हुई। 21 किसान ऐसे भी थे जिनने रबी सीजन में पहली बार फसल लगाई गई। तरबूज फसल से किसानों को अतिरिक्त आय औसत 63 हजार 57 रूपये प्रति हेक्टेयर मिली। उप संचालक उद्यानिकी अलीराजपुर श्री बहादुर सिंह चौहान ने बताया विभाग द्वारा किसानों को ड्रिप एवं मल्चिंग विधि से तरबूज फसल के लिए तकनीकी मार्गदर्शन दिया गया। साथ ही फसल मार्केटिंग की जानकारी भी दी, जिसका लाभ किसानों को मिला।

  • मनीष गुप्ता, जिला जनसंपर्क अधिकारी
    जिला- अलीराजपुर,मो.: 8349901206
व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 4 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।