भारत में काजू का रकबा दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा- केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर

Share

भारत में काजू का रकबा दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा- केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर

2 अप्रैल 2022, नई दिल्ली । भारत में काजू का रकबा दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा- केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर – भारतीय काजू अनुसंधान संस्थान, पुत्तूर (कर्नाटक) के रजत जयंती भवन का शुभारंभ आज केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने, किया। इस अवसर पर श्री तोमर ने कहा कि देश में काजू लगभग सवा 11 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में उगाया जाता है, जिसका वार्षिक उत्पादन साढ़े 7 लाख टन है। देश में काजू का रकबा दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा है। भारत दुनिया में कच्चे काजू उत्पादन में दूसरा सबसे बड़ा देश है। श्री तोमर ने कहा कि भारत में काजू की खपत देश में दिनों-दिन बढ़ रही है तो उत्पादन और खपत के बीच की गैप भरना लक्ष्य होना चाहिए।

श्री तोमर ने कहा कि काजू की खेती के तहत अधिक क्षेत्र लाकर उत्पादन बढ़ाना व उत्पादकता में वृद्धि करना आवश्यक है। । श्री तोमर ने प्रसन्नता जताते हुए कहा कि भारतीय काजू अनुसंधान संस्थान ने काजू की 26 किस्में जारी की हैं तथा कृषकों के ज्ञान, प्रौद्योगिकियों के तेजी से प्रसार हेतु ऑनलाइन सॉफ्टवेयर व मोबाइल एप “काजू इंडिया” विकसित किया गया है। काजू प्रसंस्करण क्षेत्र कृषि में ज्यादा रोजगार पैदा करता है, जिनमें 95 प्र.श. से अधिक महिलाएं हैं, वहीं काजू प्रसंस्करण कारखाने 15 लाख लोगों को रोजगार प्रदान करते हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि संस्थान का नया रजत जयंती भवन नए आयाम के रूप में जुड़ा है। इसके माध्यम से काजू की खेती व शोध को आगे बढ़ाने में सहूलियत होगी और इसका फायदा हमारे किसानों को मिलेगा। विशेष अतिथि केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री श्री कैलाश चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार की थीम लैब टू लैंड के तहत काजू किसानों को भी लाभ मिलना चाहिए। काजू की नई किस्मों को ज्यादा से ज्यादा किसानों तक पहुंचाया जाना चाहिए।

विशिष्ट अतिथि केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री सुश्री शोभा करंदलाजे ने कहा कि काजू की खेती के क्षेत्र में वृहद अनुसंधान करके, अधिक फल देने वाले पौधे विकसित करने की जरूरत है, साथ ही अधिकाधिक किसानों को काजू उत्पादन से जोड़ने की दिशा में काम करना चाहिए। 

डेयर के सचिव व आईसीएआर के महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्र ने काजू का आयात घटाने के लिए इस फसल को बढ़ावा देते हुए नए क्षेत्रों में प्रसार पर जोर दिया। आईसीएआर के उप महानिदेशक (बागवानी)डॉ. आनंद कुमार सिंह ने स्वागत उद्बोधन दिया। संचालन एडीजी श्री विक्रमादित्य पांडे व आभार प्रदर्शन काजू अनुसंधान संस्थान के कार्यकारी निदेशक डॉ. टी.एन. रविप्रसाद ने किया। कार्यक्रम में मैंगलोर के सांसद श्री नलिन कुमार कटिल, क्षेत्रीय विधायक श्री संजीव मतन्दूर, डेयर के अतिरिक्त सचिव व आईसीएआर के सचिव श्री संजय गर्ग, उप महानिदेशक (प्रसार) डा. ए.के. सिंह, सहायक महानिदेशक डा. ब्रजेश कुमार पांडे, आईसीएआर के अन्य अधिकारी, वैज्ञानिक व किसान मौजूद थे।

 

 

महत्वपूर्ण खबर: मध्य प्रदेश में अब 15 अप्रैल तक चुका सकेंगे किसान खरीफ फसल ऋण

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.