इस तरह करें अलसी की खेती

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
  • रामसेवक सहाय, दमोह

समस्या – अलसी कब तक लगाई जा सकती है मेरे पास सिंचाई के साधन हैं उपयुक्त जातियां बतलायें, अच्छे उत्पादन के गुर बतलायें।
समाधान- किसी भी जिन्स के अच्छे उत्पादन के लिये कुछ विशेष बातें होती हैं। इसी प्रकार अलसी से भी अच्छा उत्पादन प्राप्त करने के लिये आपको निम्न करना होगा।

  • विकसित जातियां जैसे शेखर, जवाहर अलसी 9, पद्मिनी हिमलानी, चम्बल, नीलम इत्यादि।
  • खेत की तैयारी अच्छी तरह से की जाये तथा बीज की ऊराई कुशल श्रमिक के द्वारा ही की जाये जिसे सघन, बगैरहा का ज्ञान हो।
  • बुआई अक्टूबर अंत तक कर ली जाये अधिक ठंड में अंकुरण प्रभावित होगा तथा रोग/कीट बढ़ेंगे।
  • 25-30 किलो बीज/हे. पर्याप्त होगा।
  • बीज का उपचार 3 ग्राम थाईरम/किलो बीज के हिसाब से किया जाये।
  • असिंचित अवस्था में 87 किलो यूरिया, 125 किलो सिंगल सुपर फास्फेट डालें, सिंचित अवस्था में 130 किलो यूरिया 200 किलो सिंगल सुपर फास्फेट डालें।
  • पहली सिंचाई बुआई के 30-40 दिनों बाद तथा दूसरी 75-80 दिनों बाद की जाये।

महत्वपूर्ण खबर : यूरिया के साथ अन्य उत्पाद किसानों को जबरन न बेचें

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − two =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।