रिलायंस फाउण्डेशन की किसानों को सलाह

Share this
  • गर्मी की मूंग में सफेद मक्खी एवं रस चूसक कीटों के प्रकोप की संभावना है, इनके द्वारा पीला मोजेक वाइरस फैलता है। नियंत्रण के लिए इथोफेनप्रॉक्स 10 ईसी एक लीटर दवा 500 ली. पानी के साथ मिला कर प्रति हे. में छिड़काव करें।
  • हल्दी की बुवाई 15 अप्रैल से 15 जुलाई तक की जाती है। हल्दी की उन्नत किस्में सुगंधा, रोमा, सुरोमा, सीओ.1, कृष्णा, राजेन्द्र सोनिया, सुगुना, सुदर्शन, सुवर्णा, प्रभा, प्रतिभा मुख्य हैं। बीज दर बीज प्रकंदों के आकार और बोनी की विधि पर निर्भर करती है। शुद्ध फसल के लिए 20 से 25 क्विट. प्रकंद व मिश्रित फसल के लिए 12 से 15 क्ंिव. प्रकंद/हे. पर्याप्त होते हैं। बुआई से पहले 2.5 ग्राम मेन्कोजेब/ली. पानी के घोल में 30 से 50 मिनट तक उपचारित करने के बाद छांव में सुखाकर बुआई करें।
  • मिट्टी की जांच के लिए नमूना गर्मी के दिनों में ही एकत्रित करें और ऐसे खेतों से नमूना नहीं लें जहां हाल ही में खाद या उर्वरक डाला गया हो। नमूना लेने के लिए खुरपी जैसे लोहे के औजारों का प्रयोग न करें। अन्यथा परीक्षण रिपोर्ट में लोह तत्व की मात्रा की सही गणना नहीं हो पाती। एक खेत से लगभग 5 से 6 स्थान से नमूने निकालें और नमूने की पहचान के लिए थैली पर खेत का नाम, स्वयं का नाम, मोबाइल नं. व पूरा पता जरूर लिखें।
उद्यानिकी
  • सब्जियों के खेत की निराई – गुड़ाई करके खरपतवारों को निकालें। फसलों का कीटों एवं बीमारीयों के लिए निरीक्षण करते रहें और आवश्यकता होने पर फसल में सिंचाई की व्यवस्था करें। 
  • कद्दूवर्गीय सब्जियों एवं भिंडी में आवश्यकता अनुसार सिंचाई करें। नींदा नियंत्रण के लिए हाथ से निंदाई करें तथा सफेद मक्खी के नियंत्रण के लिए अनुशंसित कीटनाशक का छिड़काव करें।
पशुपालन 
  • शुद्ध दूध उत्पादन हेतु दूध दोहने से पहले थन एवं अयन को पानी से धो लेना चाहिए। पशु को दोहने से पहले बाहरी वातावरण खुशनुमा और शांत होना चाहिए। साथ ही दुग्ध दोहने वाले व्यक्ति के हाथ साफ व नाखून कटे होने चाहिए।
कृषि, पशुपालन, मौसम, स्वास्थ, शिक्षा आदि की जानकारी के लिए जियो चैट डाउनलोड करें-डाउनलोड करने की प्रक्रिया:-
  • गूगल प्ले स्टोर से जियो चैट एप का चयन करें और इंस्टॉल बटन दबाएं। 
  • जियो चैट को इंस्टॉल करने के बाद,ओपन बटन दबाएं।
  • उसके बाद चैनल बटन पर क्लिक करें और चैनल Information Services MP का चयन करें। 
  • या आप नीचे के QR Code को स्कैन कर, सीधे Information Services MP चैनल का चयन कर सकते हैं। 

टोल फ्री नं.१८००४१९८८०० पर
संपर्क करें सुबह 9.30 से शाम 7.30 बजे तक
Share this
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

six − 1 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।