15 जून से मध्य और उत्तर भारत में मानसून सक्रिय होने की संभावना

Share

15 जून 2022, नई दिल्ली । 15 जून से मध्य और उत्तर भारत में मानसून सक्रिय होने की संभावना तेज गर्मी से बेहाल राज्यों को हफ्तेभर बाद राहत मिल सकती है। मौसम विभाग (आइएमडी) के मुताबिक 15 जून से मानसून मध्य और उत्तर भारत में सक्रिय हो सकता है। आइएमडी के महानिदेशक श्री मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि 15 जून तक बारिश की गतिविधियां बढऩे की संभावना है। इससे चावल, मक्का, कपास, सोयाबीन, गन्ना और मूंगफली जैसी फसलों की बुवाई में मदद मिलेगी। देश में करीब 70 प्रतिशत बारिश मानसून में होती है। इसे खेती के लिए अहम माना जाता है। इस साल मानसून दो दिन पहले 29 मई को केरल पहुंचा था। हालांकि अब तक बारिश औसत से 42 प्रतिशत कम रही है। वर्तमान मानसून कर्नाटक में सक्रिय है।

मध्य प्रदेश में  प्री-मानसून का दौर

वहीं म.प्र. में झुलसाती गर्मी के बीच किसानों एवं नागरिकों को मानसूनी वर्षा का इंतजार है। हालांकि प्री-मानसून की वर्षा राज्य के कुछ जिलों में हो रही है। परन्तु गर्मी से राहत नहीं मिल रही। मौसम विभाग के मुताबिक 15 जून के बाद मध्य प्रदेश में मानसून सक्रिय होने का अनुमान है। गत वर्ष प्रदेश में मानसून 10 जून को आया था।

मध्य प्रदेश में मानसून कब आया
वर्ष तिथि
2016 19 जून
2017 22 जून
2018 24 जून
2019 24 जून
2020 15 जून
2021 10 जून
Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.