क्यों जरूरी है बीज उपचार

क्यों जरूरी है बीज उपचार

www.krishakjagat.org
Share

खाद्य सुरक्षा के लक्ष्य को हासिल करने के लिए हमारे प्रयास पहले कदम से ही शुरू हो जाने चाहिए और कृषि का वो पहला कदम होता है बीज। उत्तम बीजों के चुनाव के बाद उनका उचित बीजोपचार भी जरूरी है क्योंकि बहुत से रोग बीजों तथा मिट्टी से फैलते हैं। अत: बीज को रोगों से बचाने के लिए बीजोपचार एक महत्वपूर्ण उपाय है। धानुका एग्रीटेक लि. ने विश्व प्रसिद्ध बीजोपचारक वीटावैक्स पॉवर किसानों को उपलब्ध करवाया है। यह फफूंदीनाशक सिर्फ बीज उपचार के लिए है वर्तमान में बीज उपचार के लिए उपयोग में लाये जाने वाले अधिकांश फफूंदीनाशक मूल रूप से छिड़काव के लिए हैं। सिर्फ बीज उपचार के लिए फफूंदीनाशक उपलब्ध न होने के कारण कार्बेन्डाजिम का प्रचलन है । वीटावैक्स विटा (विटामिन) व वैक्स (वैक्सिन) से बना है जो पौधों को विटामिन की ताकत देता है तथा वैक्सिन का टीका भी लगा देता है जिससे पौधा निरोग होकर स्वस्थ बना रहता है ।
वीटावैक्स पॉवर दो फफूंदीनाशक कार्बोसिन तथा थायरम का मिश्रण है । दोनों ही तत्व इसमें 37.5-37.5 प्रतिशत रहते हैं। कार्बोसिन अन्त: प्रवाही फफूंदीनाशक है जो पानी में घुलकर बीज के अन्दर प्रवेश कर जाता है । फफूंदियाँ बीज के अन्दर सुषुप्तावस्था में रहती हैं तथा बीज बोने के बाद उनके अंकुरण के साथ ही पौधों को ग्रसित कर देतीं हैं । इन सब फफूंदियों को वीटावैक्स पॉवर का कार्बोसिन तत्व नष्ट कर देता है और फसल को प्रारम्भिक अवस्था में ही निरोगी बना देता है । वीटावैक्स पॉवर का दूसरा तत्व थायरम है जो सम्पर्क फफूंदीनाशक है यह बीज के ऊपर लगी तथा भूमि में स्थित फफूंदियों को नियंत्रित करता है । इस प्रकार वीटावैक्स पॉवर से बीज उपचार करने से बीज व भूमिजनित दोनों प्रकार की बीमारियों से सुरक्षा मिल जाती है। अंकुरण शीघ्र, अधिक तथा समान रूप से होता है।
मौसम की विपरीत परिस्थितियों में भी बीज के जमाव में वीटावैक्स पॉवर सहायक है। जहाँ बीज बोने के बाद वर्षा होने तथा बाद में 4-5 दिन लगातार धूप के कारण भूमि की ऊपरी सतह सख्त हो जाने के कारण पौधे बाहर नहीं निकल पाते हैं। वीटावैक्स पॉवर से उपचारित बीज में वीटा की ताकत के कारण अंकुरित पौधे में उस सख्त सतह को तोड़कर बाहर निकलने की ताकत आ जाती है। वीटावैक्स पॉवर से उपचारित बीजों से उत्पन्न पौधे स्वस्थ रहते हैं तो जड़ों का विकास भी अधिक होता है। जड़ों के अधिक विकास के कारण उनमें रायजोबियम की गांठें भी अधिक बनती हैं जो वातावरण से नाइट्रोजन अवशोषित कर पौधों को उप्लब्ध कराती हैं। वीटावैक्स पॉवर का 2 ग्राम प्रति किलो बीज की दर से बीजोपचार करना चाहिए। इसकी लागत की आपूर्ति 2-4 किलो प्रति एकड़ का बीज बचाकर की जा सकती है। इस प्रकार हम बिना/कम लागत में अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

www.krishakjagat.org
Share
Share