कपास की फसल में आमतौर पर किन-किन सूक्ष्म तत्वों की कमी होती है उनके क्या उपाय हैं।

समाधान- आपका प्रश्न सामयिक है कपास एक नगदी फसल है सूक्ष्म तत्वों की कमी होने से पौधा कमजोर हो जाता है और उत्पादन प्रभावित होता है आमतौर पर कपास में जिन्क, गंधक, लोहा, मैग्नीज एवं बोरोन की कमी के लक्षण दिखाई पड़े हैं जिनका उपचार सरल है परंतु महत्व अधिक है।

  • जिंक की कमी को दूर करने के लिये 20-25 किलो जिंक सल्फेट/हे. की दर से यदि बुआई के समय दिया जाये तो अधिक लाभकारी होगा। खड़ी फसल पर जिन्क सल्फेट 2 ग्राम +चूना 1 ग्राम /लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव किया जा सकता है।
  • गंधक की कमी आने पर 20-40 किलो गंधक युक्त उर्वरक का/हे. की दर से भूमि में मिलाये।
  • मैग्नीज तथा लोहे की कमी के लक्षण दिखाई पडऩे पर 0.3 प्रतिशत मैग्नीशियम तथा फोरिक सल्फेट का छिड़काव किया जाये।

– राम प्रताप सिंह, खरगौन

www.krishakjagat.org
Share