अनानास की खेती करना चाहता हूं जानकारी देने का कष्ट करें।

समाधान

  • अनानास के लिये गर्म नमी वाली जलवायु उपयुक्त रहती है। इसके लिए 22 से 32 डिग्री से. तापक्रम उपयुक्त रहता है। दिन-रात के तापक्रम में कम से कम 4 डिग्री का अंतर होना चाहिए। रेतीली दोमट मिट्टी जिसका पीएच 5.0 से 6.0 के मध्य हो इसके लिये उपयुक्त रहती है।
  • रोपाई के लिये अनानास के सकर,स्लीप या अनानास का ऊपरी भाग उपयोग में लाया जाता है, लगाने के पूर्व इन्हें 0.2 प्रतिशत डाईथेन एम 45 के घोल से उपचारित कर लें।
  • रोपाई दिसम्बर-मार्च के मध्य अधिकांश क्षेत्रों में की जाती है परंतु स्थिति अनुसार इसे बदला जा सकता है। बहुत अधिक वर्षा के समय रोपाई न करें।
  • रोपाई के 12 से 15 माह में फसल तैयार हो जाती है। पौधे से पौधे की दूरी 25 से.मी., लाइन से लाइन की दूरी 60 से.मी. खाईयों के बीच रखें। उर्वरक की मात्रा प्रति पौधा 12 ग्रा. नत्रजन, 4 ग्राम स्फुर व 12 ग्राम पोटाश रखें। अधिकतर अनानास की खेती वर्षा आधारित होती है। आवश्यकतानुसार 20-25 दिन में सिंचाई देने से लाभ होता है।

– रामस्वरूप रघुवंशी, होशंगाबाद

www.krishakjagat.org
Share