सोयाबीन बीजोपचार के लिए वीटावैक्स पॉवर

www.krishakjagat.org
Share

इन्दौर। सोयाबीन की खेती में साल दर साल समस्याएं बढ़ती जा रही हैं। जैसे बीज व भूमिजनित बीमारियां जो फफूंदियों द्वारा उत्पन्न होती हैं, जिसके कारण अंकुरण में भारी कमी आ जाती है, इससे किसान बीज की मात्रा बढ़ाकर बोवनी करते हैं। प्रदेश में कुछ ऐसे किसान भी हैं जो 70 – 80 किलो बीज प्रति एकड़ डाल रहे हैं तो दूसरी ओर सोयाबीन बीज की कीमत हर साल बढ़ रही है।
धानुका एग्रीटेक ने विश्व प्रसिद्ध बीजोपचारक वीटावैक्स पॉवर किसानों को उपलब्ध करवाया है। यह फफूंदीनाशक सिर्फ बीज उपचार के लिए है।
निरोगी टीका
वीटावैक्स विटा-विटामिन व वैक्स वैक्सिन से बना है। जो पौधों को विटामिन की ताकत देता है तथा वैक्सिन का टीका भी लगा देता है जिससे पौधा निरोग होने के साथ ही स्वस्थ हो जाता है।
कार्बोसिन
वीटावैक्स पॉवर दो फफूंदीनाशकों कार्बोसिन (37.5 प्रतिशत) तथा थायरम (37.5 प्रतिशत) का मिश्रण है। यह पानी में घुलकर बीज के अन्दर प्रवेश कर जाता है। फसल को शुरू में ही निरोगी बना देता है।
थायरम
वीटावैक्स पॉवर का दूसरा तत्व थायरम सम्पर्क फफूंदनाशक है। यह बीज के ऊपर लगी तथा भूमि में स्थित फफूंदियों को नियंत्रित करता है। सोयाबीन की भूमिजनित बीमारियों को उत्पन्न करने वाली फफूंदियों में पीथियम फाइटोफ्थोरा, राइजोक्टोनिया तथा स्कलेरोशियम प्रमुख हैं। इसमें पीथियम के प्रकोप से पौध संख्या में अत्यधिक कमी आ जाती है। थायरम इन भूमिजनित फफूंदियों को नष्ट कर पौधों को सुरक्षित रखता है। अंकुरण शीघ्र, अधिक तथा समान रूप से होता है।
सख्त भूमि में अंकुरण
मौसम की विपरीत परिस्थितियों में भी बीज के जमाव में वीटावैक्स पॉवर सहायक है। बुवाई के बाद लगातार वर्षा की स्थिति में भी बीज का जमाव वीटावैक्स उपचारित बीजों में अच्छा मिलता है। वीटावैक्स पॉवर से उपचारित बीज में वीटा की ताकत के कारण अंकुरित पौधे में धूप से कड़क हुई भूमि को तोड़कर बाहर निकलने की ताकत आ जाती है।
जड़ों का विकास
वीटावैक्स पॉवर से उपचारित बीजों से उत्पन्न पौधे स्वस्थ रहते हैं तो जड़ों का विकास भी अधिक होता है। जड़ों के अधिक विकास के कारण उनमें रायजोबियम की गाठें भी अधिक बनती हैं जो वातावरण से नाइट्रोजन लेकर पौधों को उपलब्ध कराती है।
उपयोग की मात्रा
वीटावैक्स पॉवर का 2 ग्राम प्रति किलो बीज की दर से उपचार करना चाहिए। इसकी लागत की आपूर्ति 3-4 किलो प्रति एकड़ सोयाबीन का बीज बचाकर की जा सकती है। इस प्रकार आप कम लागत में अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

www.krishakjagat.org
Share
Share