मूंग में नींदानाशक के प्रयोग से बढ़ेगी उपज

www.krishakjagat.org

पन्ना। कृषि विज्ञान केन्द्र पन्ना के डॉ. बी. एस. किरार वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख, डॉ. आर. के. जायसवाल एवं डॉ. आर. पी. सिंह वैज्ञानिक द्वारा गांव जनकपुर एवं गुखौर में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अंतर्गत जायद मौसम में अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन मूंग का कृषकों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से तीसरी फसल का प्रदर्शन कार्यक्रम लिया गया। प्रदर्शन के अंतर्गत कृषकों को उन्नत किस्म आईपीएम 02-03 बीज 8 कि.ग्रा. प्रति एकड़ और जैव उर्वरक के अंतर्गत ट्राईकोडरमा विरडी, राईजोबियम, पी. एस. बी. कल्चर तथा पौधों की उचित वृद्धि एवं रोग प्रबंधन हेतु स्यूडोमोनास 2 ली. प्रति एकड़ की दर से प्रदाय किये गये साथ ही नींदा नियंत्रण हेतु शाकनाशी दवा क्विजालोफॉप पी इथाईल 250 मिली. प्रति एकड़ और इल्ली के नियंत्रण हेतु कीटनाशक दवा प्रोपेक्स सुपर मात्रा 250 मि.ली. प्रति एकड़ दी गई। वैज्ञानिकों द्वारा विगत दिवस गुखौर में रमाकान्त कुशवाह, रामभगत कुशवाह, रामसखा कुशवाह, जीतू कुशवाह एवं जनकपुर में पुरूषोत्तमपुर यादव एवं तिलकराज शर्मा के खेतों का अवलोकन किया तथा अपने समक्ष फसलों में नींदानाशक दवा का सही मात्रा में घोल बनवाकर छिड़काव कराया गया, साथ ही पत्ती खाने वाली इल्ली के प्रबंधन हेतु दवा डालने की सलाह दी गयी साथ ही गर्मी की मूंग में आवश्यकतानुसार सिंचाई अवश्य करते रहें।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share