समस्या- मैं जायद में मक्का लगाना चाहता हूं, उचित समय तथा जातियां बतायें।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

– वसुदेव चौरे, आमला
समाधान– जायद की मक्का आमतौर पर खरीफ मक्का से अधिक उत्पादन देने में सक्षम रहती है। क्योंकि उसके पलने-पुसने के लिये अच्छा वातावरण मिलता है। आप भी मक्का लगाये, लाभ कमायें।

  •  जातियों में पूसा कम्पोजिट 2, विकास, हिम 129, डी.एच.एम.101, डी.एच.एम. 109, पूसा अर्ली हा. 1 पूसा हा. 2, प्रकाश, जवाहर मक्का 216, सरताज इत्यादि।
  • बोनी का उचित समय फरवरी का द्वितीय पखवाड़ा।
  • बीज की मात्र 40 किलो/हे. की दर से दिया जाये।
  • उर्वरकों में 265 किलो यूरिया, सिंगल सुपर फास्फेट 375 किलो तथा 66 किलो म्यूरेट ऑफ पोटाश/हे. की दर से डाले गोबर की पकी खाद 10-20 टन/हे. की दर से दी जाये।
  • यूरिया की आधी मात्रा बुआई के समय तथा सिंगल सुपर फास्फेट/पोटाश की पूरी मात्रा भी डाली जाये।
  • शेष बची यूरिया की आधी मात्रा शेष आधी मंझार निकलते समय दिया जाये।
  • सिंचाई की व्यवस्था ग्रीष्मकाल में मांग को देखते समय की जाये।
व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven − six =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।