फल-सब्जी की घुलनशील पोषक औषधि ‘रिजॉइस डब्ल्यूजी’

Share this

इंदौर। किसानों के लिए फंगीसाइड्स, इन्सेक्टिसाइड्स एवं हर्बिसाइड्स के अलावा हाइब्रिड सीड्स और पौध पोषक औषधियां बनाने वाली कम्पनी बायोस्टेड ने फल एवं सब्जी की खेती में उपयोगी एक अनूठा टॉनिक रिजॉइस डब्ल्यूजी लांच किया है। बॉयो स्टिमुलेट (प्रेरक/पोषक) फार्मुलेशन में अत्याधुनिक तकनीकी पर आधारित रिजॉइस की विशेषता है वेटेबल ग्रेन्युअल्स (डब्ल्यूजी), जो कि पानी में आसानी से घुल जाते हैं।
कंपनी के चीफ मैनेजर (दिल्ली) श्री हेमंत अतुलवार ने कृषक जगत को बताया कि रिजॉइस डब्ल्यूजी के इसी गुण के कारण पौधे इसे तत्काल ग्रहण कर लेते हैं। अधिक सक्रिय समुद्री वनस्पति तत्व, अमीनो एसिड, कार्बोहाइड्रेट्स, पोटेशियम आदि से निर्मित रिजॉइस फसल को उत्तम पोषण प्रदान करता है। एक नई अनूठी तकनीक एफएफएस (फल और फूल अवस्था में उत्प्रेरक) तकनीकी से निर्मित रिजॉइस डब्ल्यूजी की 200 ग्राम मात्रा प्रति एकड़ की दर से दी जानी चाहिए।
फूल और सब्जी वाली फसलों में रिजॉइस का पहला छिड़काव फूल आने की अवस्था में किया जाना चाहिए, वहीं अगला छिड़काव पहले छिड़काव के 15 दिन पश्चात किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मौसम में नित प्रति आने वाले बदलावों के चलते फूल आने की अवस्था में हारमोनल तनाव पैदा हो जाता है। इससे फूलों की संख्या में कमी आने की आशंका रहती है। श्री अतुलवार ने कृषक जगत से कहा कि रिजॉइस डब्ल्यूजी फूल की संपूर्ण बॉयोकेमेस्ट्री में सुधार लाकर बेहतर पुष्प उत्पादन सुनिश्चित करता है। फूल खिलने के पश्चात रिजॉइस परिपक्व फूलों की ज्यादा से ज्यादा संख्या बनाए रखने में मददगार है। इस प्रकार फूलों की संख्या में बढ़ोतरी से निश्चित रूप से फलोत्पादन में वृद्धि होती है। रिजॉइस में समाए तत्वों से आने वाले फूल-फल अपेक्षाकृत बड़े आकार वाले, खाने में स्वादिष्ट होते हैं, जिनसे किसानों को लाभ ही लाभ मिलता है।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।