धनतेरस पूजन की सबसे सरल और प्रामाणिक विधि

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

28 अक्टूबर, 2016 शुक्रवार को धनतेरस का पवित्र पर्व है। इस दिन धन और आरोग्य के लिए भगवान धन्वंतरि पूजे जाते हैं। आइए जानें सरलतम पूजन विधि और प्रामाणिक पौराणिक मंत्र..

  • सबसे पहले मिट्टी का हाथी और धन्वंतरि भगवानजी का चित्र स्थापित करें।
  • शुद्ध चांदी या तांबे की आचमनी से जल का आचमन करें।
  • श्रीगणेश का ध्यान व पूजन करें।
  • हाथ में अक्षत-पुष्प लेकर भगवान धन्वंतरि का ध्यान करें।
    इस मंत्र से ध्यान करें :
  •     मंत्र : देवान कृशान सुरसंघनि पीडितांगान
    दृष्ट्वा दयालुर मृतं विपरीतु काम:
    पायोधि मंथन विधौ प्रकटौ भवधो
    धन्वन्तरि: स भगवानवतात सदा न:
    धन्वन्तरि देवाय नम:
    ध्यानार्थे अक्षत पुष्पाणि समर्पयामि…
  • पुष्प अर्पित कर दें और जल का आचमन करें।
  • 3 बार जल के छींटे दें और यह बोलें …
    मंत्र : पाद्यं अर्घ्यं आचमनीयं समर्पयामि।
  • भगवान धन्वंतरि के चित्र का जल के छींटों और मंत्र से स्नान कराएं।
  •   मंत्र:  धनवन्तरयै नम:
    मंत्र: स्नानार्थे जलं समर्पयामि
  • पंचामृत स्नान कराएं
  • मंत्र: धनवन्तरायै नम:
    मंत्र: पंचामृत स्नानार्थे पंचामृत समर्पयामि
  • फिर जल से स्नान कराएं।
  • मंत्र: पंचामृत स्नानान्ते शुद्धोधक स्नानं समर्पयामि
  • इत्र छिड़कें।
    मंत्र: सुवासितं इत्रं समर्पयामि
  • वस्त्र या मौली अर्पित करें
    मंत्र: वस्त्रं समर्पयामि
  • रोली या लाल चंदन से तिलक करें।
    मंत्र: गन्धं समर्पयामि (इत्र चढ़ाएं)
    मंत्र: अक्षतान् समर्पयामि (चावल चढ़ाएं)
    मंत्र: पुष्पं समर्पयामि (फूल चढ़ाएं)
    मंत्र: धूपम आघ्रापयामि (अगरबत्ती जलाएं)
    मंत्र: दीपकं दर्शयामि ( जलते दीपक की पूजा करें फिर उसी से आरती घुमाएं)
    मंत्र: नैवेद्यं निवेद्यामि (प्रसाद चढ़ाएं)
    मंत्र: आचमनीयं जलं समर्पयामि…
    मंत्र: ऋतुफलं समर्पयामि मंत्र: ताम्बूलं समर्पयामि (पान चढ़ाएं)
    मंत्र: दक्षिणा समर्पयामि (चांदी-सोने के सिक्के अगर खरीदें हैं तो उन्हें अर्पित करें या फिर घर में रखें रुपए-पैसे चढ़ाएं।
    मंत्र: कर्पूर नीराजनं दर्शयामि ( कर्पूर जलाकर आरती करें)
  • धन्वंतरि जी से यह प्रार्थना करें : हे आयुर्वेद के जनक धन्वंतरि देव समस्त जगत को निरोग कर मानव समाज को दीर्घायुष्य प्रदान करें। हमें सपरिवार आरोग्य का वरदान प्रदान करें।
व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 − twelve =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।