गन्ना पत्ती कम्पोस्ट ने दिखाया सोयाबीन फसल में कमाल

www.krishakjagat.org

मुख्यमंत्री खेत तीर्थ अंतर्गत ग्राम सातपायरी रोड स्थित चौहान कृषि फार्म एवं नर्सरी में कम लागत द्वारा फसल उत्पादन का प्रयास किया जा रहा है । यहां पर गन्ना कटाई उपरान्त पत्ती का शुगरकेन लीफ कटर मशीन के माध्यम से उसी खेत में कट कर दिया जाता है, यह कार्य पिछले 6-7 वर्षो से किया जा रहा है। ललित भागवतराव चौहान युवा कृषक, ग्राम अंधारवाड़ी ने बताया कि वर्तमान समय तक सोयाबीन में कोई भी उर्वरक व खाद का उपयोग नहीं किया, साथ ही साथ किसी प्रकार के कीटनाशक व खरपतवारनाशक का छिड़काव नहीं किया है। फसल में एक निंदाई गुड़ाई का कार्य किया है। श्री चौहान ने बताया कि कीट प्रकोप होने की दशा में कीटनाशक छिड़काव कर कीटों को नियं़ित्रत किया जायेगा। हमारा उद्देश्य कम लागत में अधिक उत्पादन प्राप्त करना है ।
गन्ने की एक फसल से 10 से 12 टन सूखी पत्ती निॢमत होती है। इस सूखी पत्ती में 28.6 प्रतिशत कार्बनिक पदार्थ, 0.35-0.42 प्रतिशत नाइट्रोजन, 0.04-0.15 प्रतिशत फास्फोरस तथा 0.42 से 0.50 प्रतिशत पोटाश होता है।
गन्ने की कटाई के पश्चात खेत में शुगरकेन थे्रशर मशीन का उपयोग करने से निम्न लिखित लाभ है:-

  • 8 से 10 टन कम्पोस्ट खाद का निर्माण
  • मृदा उर्वराशक्ति में सुधार
  • मल्ंिचग का कार्य
  • भूमि में नमी बनाए रखना
  • सूक्ष्मजीवों की संख्या में ंवृद्धि
  • जैविक खेती को बढ़ावा
  • रसायनिक खाद के उपयोग पर होने वाले खर्च में कमी
  • फसल उत्पादन में बढ़ोतरी
  • उत्पादन में वृद्धि

कृषक बंधु फसलों की नरवाई को न जलायें : मैं पिछले 7 से अधिक वर्षो से नरवाई नहीं जला रहा हूं, गन्ने की फसल की नरवाई को मिट्टी में मिलाकर काफी लाभ हो रहा है इससे मिट्टी लाभदायक सूक्ष्म जीवाणुओं की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। सोयाबीन व अन्य फसलों में ब्राड बेड फरो पद्धति बहुत कारगर है । इस तकनीक से 14 क्विंटल प्रति एकड़ उत्पादन लेने हेतु प्रयास किया जा रहा है। वर्तमान समय कृषि में लागत बढ़ती जा रही है, ऐसे में ऐसी तकनीक का समावेश कर अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है।

 

एक एकड़ सोयाबीन का विवरणकुल प्रयोग किया क्षेत्रफल-8 एकड़तकनीक

  • ब्राड बेड फरो पद्धति
  • खाद व उर्वरक का उपयोग नहीं
  • गन्ने की नरवाई को कट कर मिट्टी में मिलाना
  • किस्म- आरव्हीएस- 2001-4

नवाचार– गन्ना कटाई उपरान्त आग न लगाकर नरवाई को खेत में कट कर उपयोग किया व ब्राड बेड फरो पद्धति बुवाई दिनांक 16 जून 2017

क्र.  कार्य विवरण लागत (रू.)
1. बीज दर 18-20 किग्रा (ब्राड बेड पद्धति से बुवाई) 800
2. जुताई व खेत तैयारी खर्च पलटी पलाउ से जुताई 1000
रोटावेटर 800
ब्राड बेड फरो बनाने पर खर्च 500
3. बुवाई खर्च ( बेल द्वारा दुफन से) 600
4. बीज उपचार कार्बेन्डाजिम मेन्कोजेब इमिडाक्लोरोप्रिड 300
5. कुल्पा बैल द्वारा ( 2 बार ) 1400

 

शंकरराव चौहान, नवविचारक चौहान कृषि फार्म, सातपायरी रोड
अंधारवाड़ी, तह.- नेपानगर
जिला- बुरहानपुर
मो.: 9425952398

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share