उन्नत बीज का आधार आनुवंशिक शुद्धता

www.krishakjagat.org
Share

आज भी देश में 70 प्रतिशत से अधिक किसान स्वयं का या दूसरे किसानों द्वारा उत्पादित फसलों को ही बीज के रूप में प्रयोग करते हैं। अब बीजों के महत्च को समझते हुये सरकार के वृहद बीज उत्पादक तंत्र स्थापित कर रखे हैं एवं अनेक गैर सरकारी समितियां एवं कंपनियां बीज उत्पादन के कार्य में संलग्न है। इसके बावजूद हमारे बीज की जरूरत पूरी नहीं हो पाती। हमारे प्रदेश की बीज प्रतिस्थापन दर बढ़ाकर भी हम फसलों की उत्पादकता को बढ़ा सकते हैं। बीज प्रतिस्थापन दर कम रहने के प्रमुख कारण हैं:
सरकारी तंत्र द्वारा अपर्याप्त मात्रा में बीज उत्पादन

  •  प्रमाणित बीजों का उत्पादन उतनी मात्रा में नहीं हो पाता जितनी हमारी जरूरत है।
  •  प्रायवेट कंपनियों का ध्येय मुनाफा कमाना
  • बीज उत्पादन में संलग्न प्रायवेट कंपनियां लाभ अर्जन के उद्देश्य से उतना ही बीज तैयार करती हैं जितने का विपणन कर सकें।

विपणन व्यवस्था में खामियां
अक्सर देखा जाता हैं कि बीज आपूर्ति की व्यवस्था तो की जाती है, लेकिन विलंब से। लक्ष्य तक बीज पहुंचते-पहुंचते इतनी देरी हो जाती है कि तब तक कृषक के पास जैसा भी बीज उपलब्ध हो पाता है, उसी को खेत में बो देता है।
उच्च बाजार भाव
बीजों की कीमतें सामान्य से लगभग दोगने से ज्यादा ही होती है। प्रायवेट कंपनियों के बीज की कीमतें इतनी अधिक होती हैं कि केवल बड़े व रिस्क (जोखिम) उठाने वाले कृषक ही खरीद पाते हैं। आम किसान इनके बारे में सोचता ही नहीं। वैसे कीमतें कम रहने पर भी बहुधा किसान बीज खरीदना नहीं चाहता या दूसरे शब्दों में कह सकते हैं कि गरीब किसान के पास पैसे नहीं होते।
कृषकों में बीज के प्रति जागरूकता का अभाव
ज्यादातर कृषक बीज की गुणवता के प्रति जागरूक नहीं हैं अथवा इसके महत्व को नहीं समझते हैं। उनके पास घर में जो दाना उपलब्ध है, उसी को वे खेत में बो देते हैं और इससे होने वाले नुकसान से अनजान रहते हैं।
विषय विशेषज्ञों/वैज्ञानिकों की कमी
किसानों की सीमित की सोच, निर्धनता, संसाधनों की कमी, पूंजी कमी इत्यादि है, जो प्रत्यक्ष-परोक्ष रूप से प्रतिस्थापन दर की कम रहने के कारण हैं।
बीज के स्वरूप को जानना जरूरी
किसान भाईयों को यह जानना जरूरी है कि जो अनाज खाने के काम आता है, उसमें दानों को आनुवंशिक शुद्धता की ओर ध्यान देने की आवश्यकता नहीं होती और न ही यह देखना जरूरी होता है कि दाना कितना कीटग्रस्त है और न यह ध्यान दिया जाता है कि दाने की अंकुरण क्षमता कितनी है, लेकिन बीज में इन सब बातों पर विशेष ध्यान देना होता है। उस बीज को उत्तम कोटि का माना जाता है, जिसमें आनुवंशिक शुद्धता शत-प्रतिशत हो। खरपतवारों के बीज न मिले हों, जो रोगों और कीटों के आक्रमण से मुक्त हो, जिनकी अंकुरण क्षमता ऊंची हो और जिसमें जीवन शक्ति और ओज भरपूर हो।
किसानों को उच्च कोटि के आनुवंशिक रूप से विशुद्ध अधिक अंकुरण क्षमता वाला पुष्ट एवं स्वस्थ बीज बहुत मुश्किल से मिलता है जो कि विपुल उत्पादन का महत्वपूर्ण घटक है। उच्च गुणवत्ता वाले बीज के उपयोग से उर्वरक एवं अन्य आदानों का फल ठीक से प्राप्त कर सकते हैं। अत: बीज उत्पादन कि प्रक्रिया में बीज की आनुवंशिक शुद्धता एवं अन्य गुणों का विशेष ध्यान रखना चाहिये।

बीज की सफाई, छंटाई
ऐसा बीज कटाई से प्राप्त उपज से सीधे प्राप्त नहीं हो पाता है। जिस समय फसल की कटाई से बीज प्राप्त होता है, उस समय उसमें अनेक प्रकार की वस्तुएं मिली होती हैं। इनमें अक्रिय पदार्थ, साधारण खरपतवारों व हानिकारक खरपतवारों के बीज, अन्य किस्मों तथा अन्य फसलों के बीज प्रमुख हैं। इसके अतिरिक्त उसमें कीटों, रोगों तथा सूक्ष्म जीवों से क्षतिग्रस्त दाने और सिकुड़े बदरंग और साधारण आकार के दाने भी मिले होते हैं। ऐसे दानों को बीज के रूप में बोने से अंकुरण का प्रतिशत घट जाता है। खड़ी फसल पर रोगों तथा सूक्ष्म जीवों का आक्रमण हो सकता है, जिसका हानिकारक प्रभाव उपज पर पड़ता है। इसलिये किसान को शुद्ध बीज प्राप्त करने की आवश्यकता अनुभव हुई जिससे बीज संसाधन की संकल्पना प्रकाश में आई। बीज संसाधन का सीधा अर्थ फसल की कटाई से प्राप्त उपज की सफाई, छंटाई आदि करके शुद्ध बीज तैयार करना है। आनुवंशिकी तथा पादप प्रजनन की वैज्ञानिक विधियों की खोज होने से पौधों के वरण, संकरण तथा बहुगुणन क्षेत्र में विकास हुआ वैज्ञानिकों द्वारा और अधिक उन्नत किस्में विकसित की गई। आनुवंशिक रूप से शुद्ध होने के अतिरिक्त बीजों में अन्य वांछित गुण जैसे ओज, अंकुरण क्षमता आदि विकसित करने की दिशा में अनुसंधान किये गये जिसके परिणाम स्वरूप मूल संकल्पना विकसित की गई है। इस प्रकार बीज संसाधन की सीमाओं का विस्तार हो गया है और इस कार्य में कई अन्य ऐसी प्रक्रियाएं शामिल हो गई हैं जिनका उद्देश्य बीज की आनुवंशिक शुद्धता बनाये रखने के साथ-साथ बीज को कीटों और रोगों के प्रभाव से मुक्त रखना भी है और उसकी अंकुरण क्षमता को ऊंचा रखना है।

 

www.krishakjagat.org
Share
Share