ट्रॉपिकल का लक्ष्य : जैविक खेती के उचित साधन उपलब्ध कराना

www.krishakjagat.org
Share

भोपाल । जैविक उत्पादों की विक्री में अग्रणी ट्रापिकल एग्रो सिस्टम (ई.) प्रा.लि. द्वारा विक्रेता सम्मेलन का आयोजन किया गया । आयोजन में कम्पनी के अध्यक्ष श्री वी.के. झवर आल इंडिया मार्केटिंग मैनेजर, श्री आर.एस. साईं महाप्रबंधक, श्री प्रवीण श्रीवास्तव, पूर्व गन्ना आयुक्त म.प्र. डॉ. साधुराम शर्मा, सहायक संचालक कृषि संचालनालय म.प्र. श्री बी.एल. त्यागी, रीजन मैनेजर श्री बी.के. तिवारी उपस्थित थे।
श्री झवर ने विक्रेताओं से आह्वान किया कि वे किसानों को जैविक खेती के लाभ बताते हुए इस हेतु प्रेरित करें। किसानों को मल्टीक्रॉप लगाने की भी सलाह दें साथ ही खेत में तालाब बना कर वर्षा जल का संचय करें। उन्होंने कहा कि यदि विक्रेता स्वयं भी किसान हैं तो वे सर्वप्रथम इन बातों को अपनाएं। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि कम्पनी का सर्वप्रथम उद्देश्य किसानों को जैविक ख्ेाती के लिये उचित साधन उपलब्ध कराना है। म.प्र. में ट्रापिकल के उत्पादों को किसानों का अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है इसलिए म.प्र.में इनकी बिक्री तेजी से बढ़ रही है।
डॉ. शर्मा ने कहा कि अभी म.प्र. में भू रासायनिक ख्ेाती के बाद भी भूमि उपजाऊ बनी हुई है लेकिन यदि शीघ्र ही ख्ेाती में रसायनों का प्रयोग कम नहीं किया गया तो परिणाम घातक होंगे। उन्होनें कहा कि जैविक ख्ेाती अर्थात जीवाणुओं से खेती करना इस दिशा में ट्रापिकल एग्रो का कार्य सराहनीय है।
ट्रॉपिकल का उत्पाद नैनोफॉस गन्ने में फास्फोरस की पूर्ति के लिये अच्छा जैविक उत्पाद है। इसी तरह कम्पनी के प्रोयेल उत्पाद को नरवाई में उपयोग करने से अगली फसल के उत्पादन में वृद्धि होती है। श्री त्यागी ने विक्रेताओं को कीटनाशक अधिनियम के बारे में विस्तारपूर्वक बताया। उन्होंने रस संबंध में विक्रेताओं की शंकाओं का समाधान भी किया। श्री तिवारी ने बताया कि ट्रॉपिकल पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य अनुकूल उत्पादों का निर्माण करती है। कम्पनी को मिले ग्लोबल एग्रीकल्चर लीडरशिप अवार्ड के लिये विक्रेताओं कीे भूमिका महत्वपूर्ण रही है। म.प्र. में अब गन्ना उत्पादक किसानों का रूझान प्रतिशत जैविक खेती की ओर बढ़ रहा है।
कम्पनी द्वारा विभिन्न श्रेणियों में विक्रेताओं को पुरस्कृत भी किया गया। सम्मेलन के दौरान ट्रॉपिकल द्वारा निर्मित जैविक खेती के लिये प्रेरणास्पद फिल्म ”जीयो और जीने दो का प्रदर्शन भी किया गया।

www.krishakjagat.org
Share
Share