अदरक लगाने का सही तरीका बतायें।

  • अदरक को लगाकार एक ही खेत में उगायें। इसको हल्दी, प्याज, लहसुन, मिर्च, गन्ना, मक्का, मूंगफली तथा सब्जियों के साथ 2-3 वर्ष के फसल चक्र में सम्मिलित किया जा सकता है।
  • अदरक की क्यारियों को आधा फुट ऊंचाई की बनायें जिनकी चौड़ाई लगभग 1 मीटर तथा लंबाई अपनी सुविधानुसार रखें। संभव हो तो यदि गर्मी के मौसम में सफेद पॉलीथिन से गीले खेत को ढक कर सूर्य की गर्मी से 20-30 दिन तक उपचारित कर लें। इससे रोग व कीटों का प्रकोप कम होगा।
  • अनुशंसित उपलब्ध बीज का उपयोग करें। अदरक के बीज को डाईथेन एम 45, 3 ग्राम प्रति किलो बीज + क्लोरोपाइरीफॉस 20 ई.सी. के 1 मि.ली. प्रति किलो बीज के मान से उपचारित कर लगायें। रोपाई करते समय रोपाई के गड्ढे में 25 ग्राम नीम की खली का पाउडर मिट्टी में मिला दें। रोपाई लाईनों में 25 से.मी. लाईन से लाईन की दूरी तथा 20 से 25 से.मी. कंद से कंद की दूरी पर करें। 20 से 30 ग्राम की कंद का उपयोग बुआई के लिये करें कंद बोने के पूर्व उसे अच्छी सड़ी गोबर की खाद तथा ट्राइकोडर्मा फफूंद के मिश्रण से उपचारित कर लें। बुआई के बाद उन्हें हल्की मिट्टी से ढकें। एक एकड़ के लिये 600 से 1000 किलो कंद की आवश्यकता होगी। बुआई अप्रैल -मई के मध्य करें। बुआई के तुरन्त बाद पानी दें। क्यारियों को पलवार से ढंक दें। आवश्यकता अनुसार सिंचाई दें।- अनिरुद्ध पाटीदार, सीहोर

www.krishakjagat.org
Share