राज्यपाल का स्वागत

www.krishakjagat.org

मध्य प्रदेश की नवनियुक्त राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल से गणतंत्र दिवस के मौके पर राजभवन में मुलाकात कर कृषक जगत

www.krishakjagat.org
Read more

क्या सरसों व अन्य तिलहनी फसलों में गंधक का उपयोग आवश्यक है।

www.krishakjagat.org

समाधान – गंधक पौधों के लिये नत्रजन, स्फुर व पोटाश के बाद चौथा सबसे महत्वपूर्ण तत्व है। गंधक बीजों में

www.krishakjagat.org
Read more
wheat

गेहूं की बुआई के समय पोटाश दिया था, क्या अब पोटाश का छिड़काव करना आवश्यक है।

www.krishakjagat.org

समाधान- यदि आपने बुआई के समय पोटाश 10 किलोग्राम प्रति हेक्टर की दर से दे दिया था तो आपको खड़ी

www.krishakjagat.org
Read more

अस्पी पुरस्कार से किसानों को सम्मानित किया गया

www.krishakjagat.org

मुम्बई। वर्ष 2017 का गरिमामय समापन अस्पी उद्योग समूह ने परम्परानुसार एक भव्य कार्यक्रम में उत्कृष्ट किसानों को सम्मानित कर

www.krishakjagat.org
Read more

गन्ना उत्पादन के लिए भी कुछ करना होगा

www.krishakjagat.org

भारत में गन्ने की खेती लगभग 50.6 लाख हेक्टर में की जाती है। मध्यप्रदेश में इसका क्षेत्र मात्र 1.01 लाख

www.krishakjagat.org
Read more

स्प्रिंकलर सिंचाई अपनाएं भरपूर उपज पाएं

www.krishakjagat.org

हमारे यहां बौछारी और बूंद – बूंद सिंचाई पर ज्यादा ध्यान दिया जाए तो न केवल उत्पादन बढ़ाया जा सकता

www.krishakjagat.org
Read more

तरबूज लगाने का समय आया

www.krishakjagat.org

भूमि व जलवायु तरबूजे के लिये अधिक तापमान वाली जलवायु सबसे अच्छी होती है। गर्म जलवायु अधिक होने से वृद्धि

www.krishakjagat.org
Read more

प्रदेश में सिंचाई का रकबा 60 लाख हेक्टेयर तक बढ़ेगा

www.krishakjagat.org

सीहोर में होगा स्व-सहायता समूहों का प्रादेशिक सम्मेलन भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में

www.krishakjagat.org
Read more

कृषक जगत के साथ चलो इजराईल

www.krishakjagat.org

भोपाल। कृषि पर्यटन यात्रा की श्रृंखला को आगे बढ़ाते हुए कृषक जगत द्वारा इस वर्ष भी कृषकों को उच्च एवं

www.krishakjagat.org
Read more

कर्ज लेकर घी परोसने की कोशिश में सरकार

www.krishakjagat.org

शिवराज से नाराज किसान क्या है भावान्तर योजना राज्य में खरीफ फसल के लिये लागू की गई योजना में, अनाज

www.krishakjagat.org
Read more
Share