श्री रमेश भंडारी कलेक्टर

उद्यानिकी मूल्य अनुबंध योजना से किसानों की खेती बनेगी लाभ का धंधा

www.krishakjagat.org

कृषकों की आय में दोगुनी वृद्धि के लिए कलेक्टर एवं सहायक संचालक उद्यान का संयुक्त प्रयास (श्रवण मीणा) छतरपुर। खेती

www.krishakjagat.org
Read more

स्प्रिंकलर खेती बनी लाभ का धंधा

www.krishakjagat.org

सीहोर जिले की नसरूल्लागंज तहसील मुख्यालय के निवासी लगभग डेढ़ एकड़ भूमि के कृषक श्री रिती कुमार बताते हैं कि

www.krishakjagat.org
Read more

कम खेती को कम लागत से बनाया कृषि को लाभ का धंधा

www.krishakjagat.org

खरगोन में मोठापुरा के 65 वर्षीय किसान पंढऱी सिताराम के पास मात्र 2 एकड़ जमीन है, लेकिन इससे उनकी कमाई

www.krishakjagat.org
Read more

लल्लू सिंह ने आधुनिक तकनीक से खेती को बनाया लाभ का धंधा

www.krishakjagat.org

शहडोल जिले के सोहागपुर विकासखण्ड के ग्राम खेतौली के आदिवासी कृषक लल्लू सिंह ने खेती की आधुनिक तकनीकी अपनाकर खेती

www.krishakjagat.org
Read more

जरूरी है समृद्ध कृषि व्यवसाय का संवर्धन

www.krishakjagat.org

कृषि-पशुधन एवं संसाधनों के सरंक्षण की प्रणाली की ओर – जबकि कृषि हमारे देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है और

www.krishakjagat.org
Read more

कृषि को लाभ का धंधा बनाने की कार्य योजना पर अमल किया जाए : कमिश्नर

www.krishakjagat.org

उपसंचालक उद्यानिकी एवं जिला मत्स्य अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस देने के निर्देश होशंगाबाद। नर्मदापुरम संभाग कमिश्नर श्री उमाकांत उमराव

www.krishakjagat.org
Read more

मुनाफे का धंधा – ‘सर्पगंधा’

www.krishakjagat.org

भूमि एवं जलवायु सर्पगंधा बालुई जलोढ़ से लेकर लाल लैटराइट दोमट जैसी अनेक प्रकार की भूमि में उगाया जा सकता

www.krishakjagat.org
Read more

खेती को बनाया लाभ का व्यवसाय

www.krishakjagat.org

मुरैना जिले के मकून्दा ग्राम के कृषक रामऔतार ने परम्परागत खेती के साथ जब से अमरूद, बैंगन, टमाटर आदि की

www.krishakjagat.org
Read more

जमनापारी नस्ल से बकरी पालन व्यवसाय लाभकारी बना

www.krishakjagat.org

नीमच जिले की मनासा तहसील के गाँव तलाउ के बालचंद परम्परागत खेती से जैसे-तैसे अपने घर-परिवार का गुजर-बसर कर रहे

www.krishakjagat.org
Read more

डेयरी व्यापार में दुधारू पशुओं का चुनाव

www.krishakjagat.org

पशुपालकों में गाय, भैंस के पालन-पोषण का व्यावहारिक ज्ञान तथा रुचि होना अति आवश्यक है। दुधारू पशुओं हेतु गाय/ भैंस

www.krishakjagat.org
Read more
Share