कटहल में बहुत कम फूलों में ही फल लगते हैं, क्या कारण है ?

www.krishakjagat.org

समाधान कटहल के पेड़ों में नर व मादा फूल अलग-अलग होते हैं। सिर्फ मादा फूलों में ही फल लगते हैं।

www.krishakjagat.org
Read more

आलू की खुदाई करने पर आलुओं के ऊपर भूरे काले मिट्टी समान धब्बे हैं जिससे कीमत कम मिल रही है, क्या कारण हैं ?

www.krishakjagat.org

समाधान- ऐसा मालूम होता है कि आपकी फसल ब्लेक स्कर्फ से ग्रसित रही होगी। यह रोग राइजोक्टोनिया सोलेनी नामक फफूंद

www.krishakjagat.org
Read more

कटहल में बहुत कम फूलों में ही फल लगते हैं, क्या कारण है?

www.krishakjagat.org

समाधान – कटहल के पौधों में नर व मादा फूल अलग-अलग होते हैं। सिर्फ मादा फूलों में ही फल लगते

www.krishakjagat.org
Read more

हम काफी दिनों से अप्रैल माह में करेला लगाते हैं जो बरसात के बाद तक फल देता है परन्तु कुछ वर्षों से बेल बरसात में सूख जाती है, कृपया कारण बतायें तथा निदान भी।

www.krishakjagat.org

समाधान– वर्तमान में बहुत सारी निजी कंपनी द्वारा तथा शासकीय अनुसंधान संस्थान द्वारा सभी सब्जी फसलों के संकर बीज का

www.krishakjagat.org
Read more

मैंने असिंचित अवस्था में सुजाता गेहूं लगाया है अच्छा अंकुरण हुआ है कहीं-कहीं चांस में गेहूं उकट रहा है। कारण तथा उपाय बतायें।

www.krishakjagat.org

समाधान– असिंचित अवस्था में गेहूं में अंकुरण के बाद का उकटा दो कारणों से होता एक दीमक के प्रकोप के

www.krishakjagat.org
Read more

समस्या- असिंचित गेहूं में बुआई उपरान्त पौधे सूखने लगते हैं, उपाय तथा कारण बतायें।

www.krishakjagat.org

समाधान- असिंचित गेहूं की बुआई के तुरन्त बाद जैसे ही ‘पोईÓ बाहर आती है कतारों में कई जगह सूखी-सूखी पौध

www.krishakjagat.org
Read more

समस्या- मैंने मूंग बोई थी किन्तु रोगग्रस्त होने के कारण उसकी जगह छोटी प्याज बोना चाहता हूं, कृपया जानकारी दें।

www.krishakjagat.org

चन्द्रप्रकाश पालीवाल, नीमच समाधान- पालीवालजी प्याज का बीज नेशनल हॉर्टीकल्चर रिसर्च डेवलपमेंट फाउण्डेशन सांवेर रोड, इन्दौर में उपलब्ध होगा जिसमें

www.krishakjagat.org
Read more

समस्या – आम मालफार्मेशन के प्रमुख लक्षण तथा कारण बतायें।

www.krishakjagat.org

– सुरेश मालवीय, परासिया समाधान – आम मालफार्मेशन के बारे में वर्तमान  तक कारण विशेष की जानकारी की पुष्टी नहीं

www.krishakjagat.org
Read more
Share