सब्जी के लिए फ्रेन्चबीन (राजमा) की फसल पहली बार लगाना चाहता हूं, सुझाव दीजिए।

समाधान

  • फ्रेन्चबीन की फसल लगभग सभी प्रकार की मिट्टियों में की जा सकती हैं। मिट्टी का पी.एच. मान 5.3 से 6.0 हो तो उपयुक्त रहेगा। परन्तु यह फसल अधिक तापक्रम तथा पाले से बहुत अधिक प्रभावित होती है। इसके लिए भूमि का तापक्रम 30 डिग्री सेंटीग्रेड के आसपास बढ़वार के लिए उपयुक्त रहता है।
  • इसकी दो ऋतुएंं जून-जुलाई और जनवरी-फरवरी में की जा सकती है। बीज की मात्रा 16-20 किलोग्राम प्रति एकड़ लगेगी। बीज वीटावैक्स से उपचारित कर ही बोयें (3 ग्राम प्रति किलो बीज)।
  • इसकी जातियां दो प्रकार की रहती हैं। झाड़ीनुमा पौधों की जातियों में पूसा पार्वती, अर्का कोमल, पेन्सिल वन्डर, जम्प प्राइडर प्रमुख हैं। बेल वाली जातियों में व्ही.पी.एफ-191, प्रीमियर, फुले सुरेखा तथा केतुकी प्रमुख हैं।
  • इस फसल में जड़ों में गांठें नहीं रहती जैसा कि अन्य दलहनी फसलों में होता है। जिनमें स्थित राइजोबियम बैक्टीरिया वातावरण से नत्रजन अवशोषित कर पौधों को उपलब्ध करते हैं।
  • इस फसल को 40 किलो नत्रजन, 50 किलो स्फुर व 10 किलो पोटाश प्रति एकड़ की आवश्यकता होती है।
  • एक एकड़ में 15 से 20 क्विंटल हरी फली मिल जाती हैं।

– प्रेमनारायण, बीनागंज, जिला-गुना

www.krishakjagat.org
Share