खरीफ बुवाई में आयी तेजी

अब तक 73 लाख हेक्टेयर में हुई बोनी
(विशेष प्रतिनिधि)
भोपाल। प्रदेश में मानसून की अच्छी वर्षा होने के कारण गत वर्ष की तुलना में खरीफ बोनी ने इस वर्ष रफ्तार पकड़ ली है। अब तक 73 लाख हेक्टेयर में बोनी हो गयी है जो लक्ष्य के विरूद्ध 55 फीसदी है जबकि गत वर्ष इस अवधि में 52.85 लाख हे. में बोनी की गई थी।

कृषि विभाग के मुताबिक प्रदेश में खरीफ का सामान्य क्षेत्र 118.50 लाख हेक्टेयर है इस वर्ष 131.96 लाख हेक्टेयर में बुवाई का लक्ष्य रखा गया है। इसके विरूद्ध अब तक 73.59 लाख हे. में बोनी हो गई है। राज्य की प्रमुख खरीफ फसल सोयाबीन की बोनी तेजी से की जा रही है। अब तक 46.05 लाख हेक्टेयर लक्ष्य के विरूद्ध 34.70 लाख हेक्टेयर में बोनी कर दी गई है। जबकि गत वर्ष इस अवधि में 28.64 लाख हेक्टेयर में सोयाबीन बोई गई थी। इसी प्रकार धान की बोनी अब तक 8.69 लाख हेक्टेयर में कर ली गई है। जबकि लक्ष्य 22.50 लाख हेक्टेयर रखा गया है। राज्य में मक्का की बोनी 9.85 लाख हेक्टेयर में, तुअर 3.30 लाख हेक्टेयर में, उड़द 7.75, मूंग 1.20, तथा कपास 5.24 लाख हे. में बोई गई है वहीं मूंगफली की बोनी 76 हजार हेक्टेयर में हो गई है।

 प्रदेश में बुवाई की स्थिति
 (लाख हे. में)
फसल लक्ष्य बोनी
धान 22.5 8.69
ज्वार 2.75 1.4
मक्का 13.5 9.85
तुअर 7.1 3.3
उड़द 18.1 7.75
मूंग 2.5 1.2
सोयाबीन 46.05 34.7
मूंगफली 2.6 0.76
कपास 6.28 5.24

प्रदेश में अब तक कुल अनाज फसलें 43.70 लाख हेक्टेयर लक्ष्य के विरूद्ध 20.24 लाख हेक्टेयर में, दलहनी फसलें 28.05 लाख हेक्टेयर लक्ष्य के विरूद्ध 12.40 लाख हेक्टेयर में एवं तिलहनी फसलें 53.93 लाख हेक्टेयर लक्ष्य के विरूद्ध 35.70 लाख हेक्टेयर में बोई गई हंै।
प्रदेश में मानसून का दौर जारी है मौसम विभाग के मुताबिक अब तक 20 जिलों में सामान्य से अधिक वर्षा दर्ज की गई है। वहीं सामान्य वर्षा 13 जिलों में तथा सामान्य से कम वर्षा 18 जिलों में हुई है।

प्रदेश के 20 जिलों में सामान्य से अधिक वर्षा

मध्यप्रदेश में इस वर्ष मानसून में एक जून से 13 जुलाई तक 20 जिलों में सामान्य से 20 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज की गई है। प्रदेश के 13 जिलों में सामान्य वर्षा दर्ज हुई है। कम वर्षा वाले जिलों की संख्या 18 है। सामान्य से अधिक वर्षा वाले जिले- छिंदवाड़ा, उमरिया, इंदौर, झाबुआ, बड़वानी, खण्डवा, बुरहानपुर, उज्जैन, मंदसौर, नीमच, रतलाम, शाजापुर, आगर-मालवा, भोपाल, सीहोर, रायसेन, राजगढ़, हरदा, खरगोन और देवास हैं।
सामान्य वर्षा वाले जिले – बालाघाट, जबलपुर, सिवनी, मण्डला, नरसिंहपुर, शहडोल, धार, मुरैना, श्योपुर, गुना, अशोकनगर, विदिशा और बैतूल हैं।
कम वर्षा वाले जिले – पन्ना, कटनी, डिण्डोरी, दमोह, सागर, टीकमगढ़, छतरपुर, रीवा, सीधी, सतना, सिंगरौली, अनूपपुर, अलीराजपुर, होशंगाबाद, भिण्ड, शिवपुरी, ग्वालियर और दतिया हंै।

www.krishakjagat.org
Share