फसल उत्पादन हेतु बुवाई विधि का चुनाव

www.krishakjagat.org
विभिन्न फसलों की विभिन्न परिस्थितियों में, बुवाई करने की, भिन्न-भिन्न विधियां अपनाई जाती हैं। बुवाई की विधि फसल की उत्पादन, बढ़वार व अन्त:कर्षण क्रिया को प्रभावित करती है। अत: बुवाई की विधि ऐसी होनी चाहिए। जिससे फसल में खरपतवारों के संक्रमण को रोका जा सके तथा मृदा क्षरण कम हो। खेत में दिन में सिंचाई जल का पूर्ण उपयोग हो सके अर्थात् सिंचाई जल क्षमता बढ़ जाए। बोवाई विधि में बीजों को समान दूरी व गहराई पर बोनी हो। ये सभी बात जिस बोवाई विधि में होती है उसमें उत्पादन लागत स्वत: ही घट जाता है और प्रति इकाई क्षेत्र अधिक उत्पादन प्राप्त होता है। बीजों की बुवाई करने की विधि, विभिन्न कारणों, दशाओं एवं उद्देश्यों से प्रभावित होती है, जो इस प्रकार है:-

बीज बुवाई विधि
फसलों को अधिक उत्पादन प्राप्त करने के लिये बुवाई विधि जितनी महत्वपूर्ण है उतनी ही बुवाई की गहराई और सिंचाई महत्वपूर्ण मानी जाती है। पर्याप्त अंकुरण नहीं होने पर अधिक पौध संख्या प्राप्त नहीं होती है। जिससे उत्पादन कम हो जाता है। अच्छा अंकुरण प्राप्त करने के लिये बीजों को उचित गहराई पर बोना आवश्यक है। परंतु बीजों को बोने की गहराई निम्न कारकों पर निर्भर करती है:-
मृदा की नमी
यदि खेत में बुवाई के समय नमी की मात्रा कम हो, तब बुवाई (सामान्य नमी में बोने की अपेक्षा) गहरी करनी चाहिए। इसके विपरीत खेत में पर्याप्त नमी हो तो बीजों की बुवाई उथली करनी चाहिए।
मिट्टी का प्रकार
बलुई मृदा में बुवाई, चिकनी मृदा की तुलना में गहरी करें। क्योंकि बलुई मृदा के जलधारण क्षमता कम होती है, जिससे बीजों को अधिक गहराई में नमी मिले व अंकुरण अच्छा हो।

बीज का आकार
बड़े आकार के बीज की बुवाई गहरी व छोटे आकार के बीज को उथली भूमि में बोयेंं।
फसल की किस्म
फसल के दो किस्मों के लिये, बुवाई की गहराई अलग-अलग रखनी पड़ती है। जैसे गेहूं के देशी किस्मों में फोलियो स्टाइल की लम्बाई, बौने गेहूं की तुलना में अधिक होती है।
अत: देशी किस्मों की तुलना में अधिक होती है। अत: देशी किस्मों को गहरे बोने पर भी उनमें अच्छा अंकुरण प्राप्त हो जाता है।
अंकुरण का स्वभाव
फसली बीज को उथला बोना चाहिए। जिनका अंकुरण स्वभाव ऊपरी भूमि होता है, क्योंकि गहराई पर बोने से पौधा बीज-पत्र के सहित भूमि से आसानी से बाहर नहीं आ पाता है। जबकि अधो-भूमि अंकुरण वाले बीजों को गहराई पर भी बोया जा सकता है।

कतार विधि से बुवाईइस विधि से बीजों की बुवाई कतारों में की जाती है। खेत की तैयारी के बाद विभिन्न यंत्रों की मदद से या हाथों से बुवाई या रोपण कतारों में की जाती है। इसमें बुवाई के लिए बीज, नये पौधों तथा वानस्पतिक प्रवर्धित सामग्री की कतारों में बुवाई या रोपाई की जाती है।
समतल बुवाई विधि
समतल तैयार खेतों में बुवाई की विधियां इस प्रकार है:-

  • देशी हल के पीछे बुवाई – इस विधि में समतल तैयार खेत में देशी हल के माध्यम से बनाये गये कूंड़ों में बुवाई की जाती है। इसमें दो आदमियों की आवश्यकता होती है। एक हल चलाने व एक बीज डालने के लिए। बीज बुवाई के बाद पाटा चलाकर बीजों को ढक दिया जाता है।
  • डिबलिंग विधि – इस विधि के द्वारा डिबलर यंत्र के माध्यम से बुवाई की जाती है। यह एक साधारण यंत्र है। जिसका आकार आयताकार होता है। यह लोहे या लकड़ी के फ्रेम में बनाया जाता है। इसमें खूटियां लगी होती है। जिसकी दूरी कम या अधिक करने की व्यवस्था होती है। फसल के अनुसार बोने की दूरी के अनुसार इन खूटियों को स्थित कर दिया जाता है। यंत्र के बीज एक हत्था लगा होता है। बुवाई के लिये तैयार खेत में खूंटियों से छिद्र बनाते जाते है तथा इन छिद्रों में बुवाई कर बीजों को मिट्टी से ढंकते जाते हैं।
  • ड्रिलिंग विधि – बीजों की बुवाई, बैल चलित या ट्रैक्टर चलित सीड ड्रिल या सीड-कम फर्टिलाईजर ड्रिल के माध्यम से की जाती है। इस विधि में बीज एवं उर्वरक एक ही कतार में डाले जाते हैं।
  • क्रिस-क्रास विधि – इस विधि से बीजों को दो दिशाओं में समकोणों पर बुवाई करते हैं। पूर्व-पश्चिम दिशा में आधे बीज तथा आधे बीज उत्तर से दक्षिण दिशा की ओर बुवाई की जाती है। सामान्य तौर पर यह सीड ड्रिल के द्वारा इस प्रकार की बुवाई की जाती है।
छिड़काव विधि से बुवाई
इस विधि में बीजों को बोने के लिये सबसे पहले खेत की तैयारी की जाती है। इसके बाद बीजों को हाथों से छिड़ककर बो दिया जाता है। बोने के बाद बीजों को पाटा चलाकर भूमि में मिला दिया जाता है अथवा हल्के कृषि यंत्र जैसे – बखर इत्यादि से मिला दिया जाता है। इस विधि में सामान्यत: ऐसे फसलों के बीच बोये जाते हैं जो आकार में छोटे होते है जैसे-बरसीम, लूसर्न, धान, बाजरा, सरसों, रामतिल, लघुधान्य आदि। इस विधि को अपनाने से लाभ तो होता ही है परंतु कुछ हानियां होती है जो निम्न है-
लाभ

  • यह आसान एवं सरल विधि है।
  • बुवाई के लिये किसी यंत्र की आवश्यकता नहीं होती है।
  • इस विधि से कम समय में अधिक बुवाई की जा सकती है।

हानि :

  • बीज की आवश्यकता होती है।
  •  बीज की मात्रा, गहराई एवं बुवाई अन्तरण पर कोई नियंत्रण नहीं रहता है। यदि बीज ज्यादा गहराई पर चले जाते हैं तो उनके सडऩे व सतह पर ही रह जाने पर उनके अंकुरित न होने की संभावना होती है।
  • सिंचाई जल दक्षता कम हो जाती है।
  • निंदाई व गुड़ाई कार्य में बाधा होती है। तथा यंत्रों का प्रयोग संभव नहीं हो पाता।
रोपण विधि से बुवाईबीजों को बीज शैय्या में पौधे तैयार करने के लिये बोया जाता है। पौध तैयार होने के बाद इन्हें उखाड़कर मुख्य खेत में वांछित दूरियों पर कतारों में रोपण किया जाता है।
मेड़ विधि से बुवाई : कुछ फसलों जैसे – आलू, अरबी, रतालू, शकरकंद, टैपिकोया, गन्ना आदि के पौधों का रोपण भागों या बीजों को तैयार समतल खेतों में न बोकर मेड़ों में बुवाई करना ज्यादा प्रचलित रहता है। कतार बुवाई विधि की लाभ व हानियां निम्नलिखित है:-
लाभ :

  • बीज की मात्रा पर नियंत्रण रख सकते हैं। तुलनात्मक रूप से इसमें छिड़का विधि से कम बीज उपयोग होते हैं।
  • बुवाई इच्छित गहराई एवं दूरी पर की जाती है।
  • फसल की निंदाई – गुड़ाई करने में आसानी होती है एवं इसके लिए कृषि यंत्रों का उपयोग भी संभव होता है।
  • अधिक सिंचाई दक्षता मिलती है तथा कम समय में अधिक क्षेत्र को सिंचित किया जा सकता है।
  • पौध-संरक्षण के उपायों को क्रियान्वित करने में आसानी होती है।
  • पौध समान दूरियों पर उगते हैं अत: सभी पौधों को समान पोषक तत्व जैसे – खाद, पानी व प्रकाश मिलता है। जिससे सभी पौधों का समान विकास होता है।
  • फसल कटाई में भी आसानी होती है।
  • यदि आवश्यक हुआ तो कतारों के बीज में अन्तरवर्तीय फसलें भी ली जा सकती है।

हानियाँ –

  • यह बुवाई की एक महंगी विधि है।
  • बुवाई में अधिक समय लगता है।
  • बुवाई के लिये यंत्रों की आवश्यकता होती है।
  • यंत्रों की कार्यविधि एवं संचालन की पूर्ण जानकारी होने पर कभी-कभी किसान को परेशानी का सामना करना पड़ता है।
  • सृष्टि पाण्डेय
  • दामिनी थवाइथ
FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share