रूटबीड से करें बीजोपचार

www.krishakjagat.org
Share

नई दिल्ली। सोयाबीन एवं दलहनी फसलों में आमतौर पर देखा गया है कि उसकी जड़ों में गांठें कम बनती हैं जिसके कारण पौधों का वांछित विकास नहीं हो पाता है और फसल कमजोर रहती है। इस वजह से उपज भी काफी घट जाती है। इंसेक्टिसाइड्स इंडिया लिमिटेड ने इसके लिये प्रसिद्ध जापानी कम्पनी ओत्सुका एग्रीटेकनो कम्पनी लिमिटेड जो कि एक विश्व प्रसिद्ध नाम है, के साथ मिलकर सोयाबीन के किसानों के लिये रूटबीड उत्पाद प्रस्तुत किया है। रूटबीड से बीजोपचार के बाद सोयाबीन की उपज में 10-15 प्रतिशत तक वृद्धि होती है। रूटबीड के उपचार से सोयाबीन की फसल में गांठों की संख्या में वृद्धि हो जाती है। इससे उपचारित पौधों की जड़ों का अधिक विकास होता है, जिससे पौध तंदुरूस्त हो जाते हैं एवं रोगों से लडऩे की क्षमता भी बढ़ जाती है। रूटबीड से पौधों में फूलों एवं फलों की संख्या में विशेष बढ़ोत्तरी होती है। उपचारित दानों का वजन बढ़ जाता है जिससे उपज भी बढ़ जाती है।
प्रयोग करने की विधि

  • सबसे पहले एक एकड़ में प्रयोग होने वाले बीज को रूटबीड-एस से अच्छी तरह उपचार करें।
  • तत्पश्चात रूटबीड-पी को अच्छी तरह मिला कर उपचारित करें।
  • उपचारित बीज को छाया में सुखा कर बुआई कर दें।
www.krishakjagat.org
Share
Share