Krishak Jagat

राष्ट्रीय कृषि बाजार में कृषि उत्पादों का विक्रय

राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम)
कृषि विपणन स्थानों में प्रवेशक के सुधार के उद्देश्य से और किसानो को अधिकतम लाभ देने के लिए पूरे देश में कृषि जिंसों को ऑनलइन विपणन को प्रोत्साहन देने के लिए भारत सरकार ने दिनांक 01 – 07 -2015 को राष्ट्रीय कृषि बाजार को कार्यान्वयन के लिए एक योजना अनुमोदित की है, इस योजना के अंतर्गत सभी 250 नियमित बाजारों में यथोचित समान्य ई-मार्केट प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराया गया है, जिससे ऑनलाइन ट्रेडिंग करने ई-परमिट जारी करने और ई-भुगतान आदि करने के साथ – साथ बाजार के सम्पूर्ण कार्य के डिजिटलाइजेशन को प्रोत्साहित किया जा सके, इसके साथ-साथ सूचना विषमता को दूर करने, लेने-देने प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने पूरे देश के बाजारों में पहुंच आसान बनाने में इससे सहायता मिलेगी।
अब तक 10 राज्यों में आंध्रप्रदेश (12), छत्तीसगढ़ (5), गुजरात (40), हरियाणा (37), हिमाचल (20), राजस्थान (11), तेलंगाना (44), और उत्तरप्रदेश (66), ई-एनएएम पोर्टल के साथ एकीकृत किया गया, योजनाओं की विस्तृत जानकारी डब्लूडब्लूडब्लू.इनाम गवर्नमेंट.इन पर उपलब्ध है।
किसान उत्पादक संगठन में किसान कैसे सम्मिलित हों
किसानों का एक समूह जो वास्तव में कृषि उत्पादक कार्य में लगा हो और जो कृषि व्यवसायिक गतिविधियां चलने में एक जैसी धारणा रखते हो, एक गांवों को सम्मिलित कर एक समूह बना सकते हैं और सांगत कंपनी अधिनियम के अधीन एक किसान उत्पादन कंपनी के पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकते हं।ै
किसानों को लाभ –

 

www.krishakjagat.org