निगरानी दल ने सोयाबीन के लिए किसानों को सुझाये आवश्यक उपाय

(रामस्वरूप लौवंशी)
होशंगाबाद। खरीफ फसलों की निगरानी हेतु कलेक्टर होशंगाबाद द्वारा गठित दल ने गत दिनों विकासखंड होशंगाबाद के ग्राम रोहना, सांवलखेड़ा, डोलरिया, पतलई तथा विकासखंड सिवनी मालवा के निपानिया, खटकड़, भिलाडिया कलां, लोधड़ी, बघवाड़ा, रतवाड़ा व धरमकुंडी आदि ग्रामों में फसल स्थिति का निरीक्षण किया।

दल में डॉ. के.के. मिश्रा, वरिष्ठ वैज्ञानिक आंचलिक कृषि अनुसंधान केन्द्र पवारखेड़ा, राजीव यादव अनुविभागीय अधिकारी कृषि जे.एल. कास्दे सहायक संचालक कृषि, शैलेन्द्र राठौर सहायक रसायनज्ञ तथा ग्रा.कृ.वि. अधि. हरिओम रघुवंशी सदस्य सम्मिलित रहे। दल द्वारा निरीक्षण के दौरान देखा गया कि उड़द की फसल में लीफ स्पॉट बीमारी पाई गई जिसमें उड़द फसल की पुरानी पत्तियों पर भूरे रंग के धब्बे दिखाई देते हैं तथा कई धब्बे मिलकर पूरी पत्ती को गहरी लाल अथवा गहरे भूरे रंग की कर देते हैं, इस बीमारी के नियंत्रण हेतु किसान भाई कार्बेन्डाजिम +मेंकोजेब 2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से प्रयोग कर नियंत्रित कर सकते हैं। क्षेत्र में सोयाबीन पर एन्थ्रक्नोज, वेब ब्लाईट, राईजोक्टोनिया आदि बीमारियों के लक्षण भी दिखाई दिये। एन्थ्रेक्नोज बीमारी के कारण पत्तियों पर गोल धब्बे जिनके किनारे पीले रंग के होते हैं तथा कई धब्बे मिलकर पूरी पत्ती पीली कर देते हैं। इस रोग के नियंत्रण हेतु यदि सोयाबीन फसल की ऊपरी अधिकांश पत्तियां हरी हो तो प्रोफेनोफॉस 2 मि.ली. प्रति ली. पानी अथवा क्लोरोथायलोनिल 2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से घोल बनाकर छिड़काव करने से फसलों को नुकसान से बचाया जा सकता है। सोयाबीन में राईजोक्टोनिया रोग के प्रकोप के कारण जड़ का छिलका सड़ जाता है तथा पौधे को उखाडऩे पर पौधे आसानी से उखड़ जाता है तथा संक्रमित पौधा पूरी तरह सूख जाता है। इस रोग के नियंत्रण हेतु कार्बेन्डाजिम 2 ग्रा. प्रति लीटर पानी अथवा प्रोपेकोनाजोल 1 मि.ली. प्रति लीटर पानी की दर से छिड़काव करने पर रोग को नियंत्रित किया जा सकता है। वहीं सोयाबीन में वेब ब्लाईट रोग की समस्या दिखाई देने पर किसान भाई (लक्षण-पौधों की निचली पत्तियों में गलन होकर पास की पत्तियों को प्रभावित करता है) कार्बेन्डाजिम 2 ग्रा. प्रति लीटर पानी अथवा प्रोपेकोनाजोल 1 मि.ली. प्रति लीटर पानी की दर से छिड़काव करने पर रोग को नियंत्रित कर सकते हैं।

www.krishakjagat.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share