गेहूं का रिकॉर्ड उत्पादन होगा: श्री पटनायक

नई दिल्ली। कृषि सचिव श्री एस. के. पटनायक ने गत दिनों कहा कि खेती के रकबे और उपज में वृद्धि की संभावनाओं के कारण देश का गेहूं उत्पादन चालू 2017-18 के फसल वर्ष जुलाई से जून में 10 करोड़ टन के सर्वकालिक रिकॉर्ड ऊंचाई को छूने की उम्मीद है। फसल वर्ष 2016-17 में गेहूं उत्पादन रिकॉर्ड नौ करोड़ 83 लाख टन का हुआ था। इससे पूर्व का उच्चतम स्तर वर्ष 2013-14 में नौ करोड़ 58 लाख टन का था।

रकबे की कमी होगी पूरी

सरकार ने चालू वर्ष में 9.75 करोड़ टन गेहूं उत्पादन का लक्ष्य रखा था। मुख्य रबी फसल गेहूं की बुवाई अक्टूबर से शुरु होती है और कटाई मार्च से होती है। श्री पटनायक ने बताया कि रबी बुवाई अच्छी तरह से प्रगति कर रही है। हमें इस वर्ष गेहूं उत्पादन के करीब 10 करोड़ टन हो जाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि अभी तक गेहूं बुवाई का रकबा कम है लेकिन इसकी पूर्ति कर ली जायेगी। बुवाई में देर हुई क्योंकि खेत गेहूं बुवाई के लिए तैयार नहीं किये जा सके थे। कृषि सचिव ने कहा कि ज्यादातर उत्तर प्रदेश में गेहूं बुवाई का रकबा कम है। हालांकि बुवाई का काम जनवरी माह के अंत तक चलेगा इसलिए कमी को पूरा कर लिया जायेगा। उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा है कि गेहूं के रकबे की कमी को पूरा कर लिया जायेगा क्योंकि मौसम अनुकूल है और इससे बुवाई बढ़ेगी। कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार रबी सत्र में पिछले सप्ताह तक गेहूं बुवाई का रकबा एक साल पहले इसी समय की तुलना में 4.77 प्रतिशत कम चल रहा था और 283.46 लाख हेक्टेयर था। पिछले वर्ष की समान अवधि में रकबा 297.67 लाख हेक्टेयर था।

www.krishakjagat.org
Share