रेल बजट- 2018-19 – यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा का ख्याल

देश में रेल नेटवर्क को मजबूत करने पर सरकार के जोर को ध्यान में रखते हुए आम बजट 2018-19 में आबंटन में बढ़ोतरी की गई है। केंद्रीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली ने संसद में आम बजट 2018-19 को प्रस्तुत करते हुए कहा कि वर्ष 2018-19 के लिए रेलवे के पूंजीगत व्यय को बढ़ाकर 1,48,528 करोड़ रुपये किया गया है। इसका एक बड़ा हिस्सा क्षमता सृजन पर खर्च किया जाए। 18000 किलोमीटर के दोहरीकरण/तीसरी/चौथी लाइन के निर्माण कार्य और 5000 किलोमीटर के गेज परिवर्तन से क्षमता में वृद्धि होगी और लगभग समूचे नेटवर्क को ब्राड गेज में बदल दिया जाएगा। वित्त मंत्री श्री जेटली ने 2018-19 के दौरान 12000 वैगन, 5160 कोच और लगभग 700 लोकोमोटिव की खरीदारी की घोषणा की। माल शेडों में अवसंरचना को सुदृढ़ करने और निजी साइडिंग के फास्ट ट्रेक कार्य शुरू करने के लिए एक प्रमुख कार्यक्रम शुरू किया गया है।
श्री जेटली ने आश्वस्त किया कि फाग सेफ तथा ‘ट्रेन प्रोटेक्शन एंड वार्निंग सिस्टमÓ जैसी प्रौद्योगिकी का प्रयोग बढ़ाया जाएगा। अगले दो वर्षों में 4267 मानवरहित लेवल क्रासिंग को समाप्त कर उन्हें बीजी नेटवर्क में परिवर्तित करने का निर्णय लिया गया है।
इंडियन रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड द्वारा 600 प्रमुख रेलवे स्टेशनों को पुन: विकसित करने का कार्य शुरू किया जा रहा है। 25 हजार से अधिक आगंतुक वाले सभी स्टेशनों में एस्क्लेटर लगाए जाएंगे। सभी रेलवे स्टेशनों और रेलगाडिय़ों में वाई-फाई सुविधा प्रदान की जाएगी। सभी रेलवे स्टेशनों और रेलगाडिय़ों में सीसीटीवी उपलब्ध कराए जाएंगे ।
वित्त मंत्री ने बताया कि मुंबई की परिवहन प्रणाली का विस्तार किया जा रहा है और 11,000 करोड़ रुपये की लागत से 90 कि.मी. दोहरी पटरियां जोड़ी जा रही हैं। लगभग 40000 करोड़ रुपये की लागत से 150 किलोमीटर अतिरिक्त उपनगरीय नेटवर्क योजना बनाई जा रही है जिसमें कुछ खंडों में ऊंचे उठे हुए गलियारे शामिल है।ं बेंगलुरु में महानगरीय विकास की जरूरतों को पूरा करने के लिए 17000 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से करीब 160 किलोमीटर के उपनगरीय नेटवर्क की योजना बनाई जा रही है। भारत की पहली हाई स्पीड रेल परियोजना मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन ट्रैक बनाने का काम शुरू किया जा रहा है इसके लिए बड़ोदरा में एक संस्थान खुलेगा। हाई स्पीड रेल परियोजना के लिए आवश्यक श्रमबल को प्रशिक्षित करने के लिए बड़ोदरा में एक संस्थान की स्थापना की जा रही है।

प्रमुख बिन्दु

  • रेलवे का पूंजीगत व्यय 148528 करोड़
  • मुम्बई और बेगलुरू में रेल नेटवर्क विस्तार
  • 5000 कि.मी. रेल लाईन का गेज परिवर्तन होगा
  • 4000 कि.मी. रेल लाईन का विद्युतीकरण
  • रेल किराया-भाड़ा में बदलाव नहीं
  • यात्रियों के लिए एस्केलेटर सीढिय़ां, वाई फाई एवं सीसीटीवी सुविधा
  • हाईस्पीड बुलेट ट्रेन की सुविधा
  • 600 प्रमुख रेल्वे स्टेशन विकसित होंगे
  • 12000 वैगन, 5160 नए कोच एवं 700 रेल इंजन तैयार होंगे

 

www.krishakjagat.org
Share