रबी फसलों का समर्थन मूल्य घोषित – गेहूं का एमएसपी 1735 रु. क्विं. तय

समर्थन मूल्य में 85 से 400 रुपये प्रति क्विंटल तक की वृद्धि

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में गत दिनों आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी की बैठक में न्यूनतम समर्थन मूल्य तय किया गया। बैठक में 110 रु. से लेकर 400 रुपये प्रति क्विं. तक की बढ़ोत्तरी की गई है।

                                   (नई दिल्ली कार्यालय)
नई दिल्ली। सरकार ने रबी 2017-18 के लिये फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित कर दिया है। फसलों का विपणन अगले वर्ष 2018-19 में किया जाएगा। कृषि लागत एवं मूल्य आयोग की सिफारिश पर सरकार ने गेहूं के समर्थन मूल्य में 110 रु. की वृद्धि कर 1735 रु. प्रति क्विं. कर दिया है।


प्रेक्षकों के मुताबिक गत वर्षों के मुकाबले फसल की कीमतों में बढ़ोत्तरी बेहतर है। आगामी चुनावों को मद्देनजर रखते हुए और किसानों में बढ़ते असंतोष को एक प्रकार से सरकार ने राहत दी है। लेकिन सरकार को यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि इन दामों पर सरकारी खरीद भी हो।बैठक में चने का समर्थन मूल्य 4400 रु. तथा सरसों एवं मसूर का समर्थन मूल्य क्रमश: 4000 एवं 4250 रु. प्रति क्विं. तय किया गया है। कृषि अर्थशास्त्री और सीएसीपी के पूर्व अध्यक्ष डॉ. अशोक गुलाटी के मुताबिक दलहन के दाम में बढ़ोत्तरी पिछले साल के मुकाबले कम है। दलहन का वर्तमान बाजार भाव एमएसपी से काफी कम है।

सरकार को किसानों से खरीदी सुनिश्चित करना चाहिए। गेहूं के एमएसपी में 110 रु. की वृद्धि कर इस वर्ष मूल्य 1735 रु. प्रति क्विं. दिया गया है जबकि गत वर्ष एमएसपी 1625 रु. प्रति क्विं. था। जौ का न्यूनतम समर्थन मूल्य 85 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाकर 1410 रु. प्रति क्विंटल किया गया है। चना और मसूर के न्यूनतम समर्थन मूल्य में क्रमश: 400-300 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि गत वर्ष की तुलना में की गई।

 

 

इसका न्यूनतम समर्थन मूल्य क्रमश: 4400 रु. प्रति क्विंटल तथा 4250 रु. प्रति क्विंटल किया गया। सरसों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में भी 300 रु. प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई। इसका न्यूनतम समर्थन मूल्य 4000 रु. प्रति क्विंटल निश्चित किया गया। सूरजमुखी के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 400 रु. प्रति क्विंटल की वृद्धि कर इसका न्यूनतम समर्थन मूल्य 4100 रु. प्रति क्विंटल निश्चित किया गया है। सरकार अप्रैल से जून के मध्य समर्थन मूल्य पर इसकी खरीदी करती है।

www.krishakjagat.org
Share