हरी खाद के लिए ढैंचा लगाएं

www.krishakjagat.org
Share

हरी खाद
उत्तरी भारत में हरी खाद के लिए ढैंचा सर्वाधिक लोकप्रिय एवं उत्तम दलहनी फसल है। यह फसल मिट्टी और जलवायु की विभिन्न परिस्थितियों के लिए अनुकूल है। इसे सूखा, जलभराव, लवणता आदि प्रतिकूल परिस्थितियों में भी उगाया जा सकता है। इस फसल की दो प्रजातियां सैसबेनिया एक्यूलेटा एवं सैसबेनिया रोस्ट्रेटा अपने शीघ्र खनिजकरण, उच्च नाइट्रोजन मात्रा तथा अल्प समय में वृद्धि के कारण बाद में बोई गई मुख्य फसल की उत्पादकता पर अच्छा प्रभाव डालती है। इनमें से सैसबेनिया एक्यूलेटा प्रजाति के पौधे आकार में सीधे व लम्बे एवं सूखे के प्रति सहनशील होते है। ढैंचा की फसल की अवधि लगभग 45-60 दिनों की होती है इसलिए इसे विभिन्न फसल प्रणालियों में जायद व खरीफ दोनों मौसमों में उगाया जा सकता है।
भूमि: ढैंचा के लिए अच्छे जल निकास वाली बलुई दोमट मृदायें एवं लवणीय और क्षारीय मृदायें उपयुक्त रहती हैं।
किस्में: ढैंचा की प्रमुख उन्नत प्रचलित किस्में सेस पी.डी.सी. एस. आर-1, सेस पंत-1, सेस एच-1, सेस एन.बी.पी.जी., आर-1 है।
बीज एवं बुवाई: हरी खाद के लिए ढैंचा का बीज 40-45 कि.ग्रा. प्रति हैक्टेयर की दर से बोना चाहिए। खरीफ में बुवाई वर्षा प्रारम्भ होने के तुरन्त बाद कर देनी चाहिये तथा यदि सिंचाई की सुविधा उपलब्ध हो तो हरी खाद की बुवाई वर्षा शुरू होने के पूर्व भी की जा सकती है।
उर्वरक: पौधों की वृद्धि की प्रारम्भिक दशाओं में वायुमण्डलीय नाइट्रोजन यौगिकरण जीवाणु सक्रिय नहीं होता अत: इसके लिए 25-30 कि.ग्रा. नाइट्रोजन व फसल की शीघ्र बढ़वार एवं आगे की फसल की उपज को बढ़ाने हेतु 40-50 कि.ग्रा. फास्फोरस प्रति हेक्टेयर बुवाई के समय दें। इससे फसल की बढ़वार अच्छी होगी और साथ ही जड़ो पर अधिक ग्रथिया(गांठें) बनेंगी जिससे वायुमण्डीय नाइट्रोजन अधिक मात्रा में संश्लेषित होगी।
सिंचाई: ग्रीष्मकालीन फसल के लिए पलेवा सहित 2-3 सिंचाइयों की आवश्यकता होती है। जरूरत पडऩे पर 10 से 15 दिन के अंतराल में हल्की सिंचाई कर दें। खरीफ में वर्षा की मात्रा के अनुसार 1-2 सिंचाई पर्याप्त है।
हरी खाद की पलटाई:
हरी खाद के लिये बोई ढैंचा की फसल 40 से 45 दिन बाद मिट्टी में मिलाने के लिए तैयार हो जाती है। हरी खाद की फसल को पलटने के लिये पुरानी पद्धति से खड़ी फसल में पाटा चलाकर फिर मिट्टी पलटने वाले हल से फसल को मिट्टी में दबा दिया जाता है। परन्तु अब रोटावेटर की उपलब्धता व प्रयोग से यह कार्य अधिक बेहतर तरीके से किया जा सकता है क्योंकि इसमें फसल को सीधे छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर मिट्टी में मिलाने की प्रक्रिया एक बार में ही पूर्ण कर दी जाती है जिससे समय की बचत के साथ हरे पदार्थ का सडाव जल्दी होता है ।
हरी खाद के लाभ:

  • हरी खाद के प्रयोग से मृदा में जीवांश पदार्थ की वृद्धि होती है इससे प्रदान किये गये पोषक तत्व मृदा में अधिक स्थाई होते है।
  • हरी खाद से मृदा की भौतिक संरचना में सुधार होकर जल धारण क्षमता बढ़ती है। अत: बिल्कुल बलुई भूमि के सुधार के लिये भी हरी खाद का प्रयोग किया जा सकता है।
  • ढैंचा, एक दलहनी फसल होने से इसकी जड़ ग्रंथियों में जीवाणुओं द्वारा मृदा में नाइट्रोजन संचयन में वृद्धि होती है व अन्य लाभदायक जीवाणुओं की क्रियाशीलता भी बढ़ती है।
  • हरी खाद की दलहनी फसलें जड़ों में नाइट्रोजन स्थिरीकरण कर न केवल साथ बोई गई फसलों को बल्कि आगामी फसलों की भी नाइट्रोजन आवश्यकता के एक बड़े हिस्से की आपूर्ति कर सकती है। ढैंचा की एक फसल से लगभग 70-80 कि.ग्रा. प्रति हे. तक नाइट्रोजन भूमि में संचित हो जाती है।
  • हरी खाद के उपयोग से भूमि में नाइट्रोजन व कार्बनिक पदार्थ की मात्रा में वृद्धि होती है तथा इससे मुख्य पोषक तत्वों के साथ गौण तथा सूक्ष्म तत्वों (जस्ता, लोहा, मैंग्नीज व तांबा) की उपलब्धता बढ़कर फसलोत्पादन में वृद्धि होती है।
  • हरी खाद के प्रयोग से मृदा कटाव कम होने से पोषक तत्वों की हानि कम होती है। भूमि की ऊपरी सतह सुरक्षित रहती है।
  • हरी खाद की सघन पौध एवं शीघ्र वृद्धि से खरपतवारों की रोकथाम होती है।
  • हरी खाद द्वारा जीवांश पदार्थ मिट्टी में मिलकर रेतीली व चिकनी मिट्टी की संरचना को सुधारता है।
  • हरी खाद के विघटन से अनेक अम्ल पैदा होकर मृदा पी.एच. को उदासीन करते हैं जिससे क्षारीय एवं लवणीय मृदाओं में सुधार होता है।
वर्तमान समय में खेती में रसायनिक उर्वरकों के असंतुलित प्रयोग एवं सीमित उपलब्धता को देखते हुए पोषक तत्वों के अन्य विकल्प भी उपयोग में लाना आवश्यक हो गया है और तभी हम खेती की लागत को कम कर फसलों की प्रति एकड़ उपज को बढ़ाने के साथ ही मिट्टी की उर्वराशक्ति को भी अगली पीढ़ी के लिये बरकरार रख सकेंगे। रसायनिक उर्वरकों के पर्याय रूप में मिट्टी उपजाऊ शक्ति को बनाये रखने के लिए हरी खाद एक सस्ता व सरल विकल्प है।

 

हरी खाद प्रयोग हेतु सावधानियां

  • हरी खाद को अधिकतम 45-60 दिन में भूमि में अवश्य मिला दें।
  • हरी खाद को खेत में पलटते समय खेत में पर्याप्त नमी का अवश्य ध्यान रखें।
  • हरी खाद की फसलों को हल्की बलुई मृदाओं में अधिक गहराई पर तथा भारी चिकनी मृदाओं में कम गहराई पर दबाना चाहिए।
  • हरी खाद को शुष्क मौसमी दशाओं में अधिक गहराई पर तथा आद्र्र मौसम की दशाओं में कम गहराई पर दबाना चाहिये।
  • हरी खाद वाली फसलों को भूमि में मिलाने के लिए फूल आने से पूर्व की अवस्था सर्वोत्तम होती हैं
  • सुमित कुमार
  • डॉ. बाघसिंह राठौड़
  • email : rathorebs1957@rediffmail.com
www.krishakjagat.org
Share
Share