समस्या- कपास में सफेद मक्खी का प्रकोप पाया जाता है, उपचार बतायें।

www.krishakjagat.org
Share

शोभा शंकर, खरगौन
समाधान – सफेद मक्खी कपास सहित अन्य खरीफ, रबी तथा जायद फसलों में आक्रमण करके साल भर अपनी चुनौती फसल को देती रहती है। उपचार के लिये निम्न उपचार करें।

  • कपास की बिजाई समय से करें यथासम्भव मई में ही कर लें।
  • मेढ़ों पर लटजीरा नामक खरपतवार हो तो उन्हें हटा दें ताकि सफेद मक्खी वहां पनप कर कपास में ना आ पाये।
  • नत्रजन उर्वरक का उपयोग सिफारिश से अधिक नहीं करें।
  • इसी प्रकार सिंचाई का भी प्रबंध अच्छा करें ताकि खेत में आद्र्रता अधिक नहीं हो पाये।
  • कीटनाशी का संतुलित उपयोग करें। क्षति सीमा पार हो जाने के बाद डाईमिथियेट (रोगर) 30 ई.सी. 350 मि.ली. दवा प्रति एकड़ 150-200 लीटर पानी में मिलाकर 10 दिनों के अंतर से दो छिड़काव करें अथवा आक्सीडिमेटॉन (मेटासिस्टाक्स) 400 मि.ली./एकड़ 150-200 लीटर पानी में घोल बनाकर 10 दिनों के अंतर से दो छिड़काव करें।
www.krishakjagat.org
Share
Share